नई दिल्ली: टीम इंडिया से बाहर चल रहे भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला ऑलराउंडर युवराज सिंह को ग्वालियर के आईएमटी विश्वविद्यालय ने गुरुवार को दर्शनशास्त्र में डॉक्टरेट की मानद उपाधि से नवाजा है. युवराज सिंह को यह सम्मान खेल में दिए गए योगदान और असाधारण खेल कौशल के अलावा कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से निजात पाने के बाद दूसरे लोगों को हौसला देने के लिए दिया गया है. बता दें कि युवराज सिंह ने कैंसर जैसी भयानक बीमारी से पीड़ित होने के बाद भी उससे उबरकर बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया था. इस अवसर पर युवराज सिंह ने कहा कि मैं डॉक्टरेट की उपाधि पाकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं. इससे मुझे अतिरिक्त जिम्मेदारी का अहसास होता है और मैं अपने कार्यों से दूसरे के लिए उदाहरण बनना चाहता हूं.

बता दें कि 35 वर्षीय युवराज सिंह ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 400 से अधिक मैचों में 10 हजार से अधिक रन बना चुके हैं. भारतीय टीम में रहते हुए युवराज सिंह ने अपनी कई अच्छी पारियों की बदौलत टीम इंडिया के लिए कई मैच जिताने में अहम भूमिका भी निभा चुके हैं. यहीं नहीं युवराज सिंह ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने 6 गेंद में 6 छक्के लगाए हैं. दरअसल 2007 में खेले गए पहले टी-20 विश्व कप में युवराज सिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ खेलते हुए गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 6 छक्के जड़े थे. भारत ने पहली बार टी-20 विश्व कप भी जितने में कामयाब रहा.

यहीं नहीं साल 2011 में आयोजित वनडे वर्ल्ड कप में भी युवराज सिंह ने बेहतरीन प्रदर्शन किया था और मैन ऑफ द टूर्नामेंट बने थे. इस विश्व कप में युवराज सिंह ने बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी में भी कमाल दिखाया था और टीम इंडिया ने खिताब अपने नाम किया था. बता दें कि युवराज के अलावा यह सम्मान डा. एएस किरण कुमार (अंतरिक्ष विज्ञान), गोविंद निहलानी (फिल्म), डा. अशोक वाजपेयी (कवि), डा. आए माशेलकर (विज्ञान एवं तकनीक), अरुणा राय (सामाजिक कार्य) व अन्य को दिया गया है.

IPL 2018: अब बदलने वाला है आईपीएल, ये बातें सुनकर खुश हो जाएंगे आप

वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप 2017 में गोल्ड जीतकर भारत की सैखोम मीराबाई चानू ने रचा इतिहास

Sri Lanka vs India: थरंगा की जगह परेरा बने श्रीलंकाई टीम के सीमित ओवर के कप्तान

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर