नई दिल्ली. भारतीय टेनिस खिलाड़ियों में आपने लिएंडर पेस और महेश भूपति का नाम सुना होगा जो कि टेनिस की सनसनी रहे हैं. अब इस लिस्ट में एक और नाम जड़ा हुआ ही मानें जिसका नाम है सुमित नागल. सुमित नागल ने साल के आखिरी टेनिस ग्रैंड स्लैम यूएस ओपन (US Open) में अपना पहला ग्रैंड स्लैम टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी रोजर फेडरर के खिलाफ खेला. इस मुकाबले को भले ही वह हार गए लेकिन उन्होंने अपने आइडल खिलाड़ी रोजर फेडरर को पहले मुकाबले में कड़ी टक्कर दी है. सुमित नागल ने पहले सेट में रोजर फेडरर को 6-4 से हरा दिया जिसके बाद पूरे देश की नजरें इनके उपर थीं.

वहीं 20 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता रोजर फेडरर ने सुमित नागल को दूसरे सेट में 6-1 और तीसरे सेट में 6-2 से हराया. आखिरकार फेडरर ने अपने अनुभव की वजह से यह मुकाबला 6-4 से जीत लिया. वहीं इस मुकाबले की जीत के बाद फेडरर ने सुमित की तारीफ करते हुए कहा कि यह मैच काफी टफ रहा लेकिन सुमित काफी अच्छे खिलाड़ी हैं और उनके पास अच्छी तकनीक है. सुमित भले ही इस मुकाबले को हार गए हों लेकिन हर कोई यही जानना चाहता है कि आखिर सुमित कौन हैं जिन्होंने अपने आइडल खिलाड़ी को कड़ी टक्कर दे डाली है.

View this post on Instagram

👀

A post shared by Sumit Nagal (@nagalsumit) on

सुमित नागल हरियाणा के झर्जर जिले के जैतपुर गांव के रहने वाले हैं और इनका जन्म साल 1997 में 16 अगस्त को हुआ था. इनके पिता सुरेश नागल फौज में थे, बचपन से ही सुमित को टेनिस खेलने का शौक था. परिवार वालों ने भी इनके शौक को पूरा करने के लिए दिल्ली में घर ले लिया और वह नांगलोई में रहने लगे. सुमित जब आठ साल के थे तो उनके पिता उन्हें डीडीए स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में अभ्यास कराने के लिए लेके जाते थे. सुमित ने ट्रेनिंग के समय रैकेट पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली और बाद में उन्होंने महेश भूपति की एकेडमी से भी ट्रेनिंग ली. इसके बाद इन्होंने छोटे लेवल के खेलों में कई ट्रॉफी जीतीं और यह कनाड़ा, स्पेन, जर्मनी में शानदार खेले.

साल 2015 में इन्होंने जूनियर विंबलडन ग्रैंड स्लैम का खिताब जीता. साल 2015 के यूएस ओपन में इन्होंने नंबर 2 की रैंक हासिल की, इसी साल फ्रेंच ओपन में भी नंबर 2 की रैंक पर रहे. इसके बाद साल 2015 में ही ऑस्ट्रेलियन ओपन में नंबर 3 की रैंक हासिल की. ये सभी रैंक जूनियर सिंगल इवेंट की हैं.

Women’s T20 Cricket Included Commonwealth Games 2022: आईसीसी ने दी हरी झंडी, कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 का हिस्सा बनेगा महिला इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट

Mahendra Singh Dhoni Retirement: महेंद्र सिंह धोनी पर संन्यास का दबाव बनाना भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान को भुलाने जैसा है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App