Virat Kohli Income: इन दिनों पाकिस्तान के बल्लेबाज़ बाबर आज़म जबरदस्त फॉर्म में हैं और उनके प्रशंसक उनकी तुलना विराट कोहली से करने लगे हैं. अगर हम इन खिलाड़ियों के अपने-अपने बोर्ड से करार की राशि को देखें तो विराट कोहली को बीसीसीआई के करार से जितनी धनराशि महीने भर में मिलती है, करीब-करीब उतनी धनराशि बाबर आज़म को साल भर में मिलती है. इतना ही नहीं, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड अपने कॉन्ट्रैक्ट के सभी खिलाड़ियों पर जितनी धनराशि (10 लाख डॉलर) खर्च करता है, करीब करीब उतना बीसीसीआई विराट कोहली (9 लाख डॉलर) की सालाना सेलरी पर खर्च करता है.

कुल रेवेन्यू का 5% से भी कम

पिछले दिनों पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड के क्रिकेट बोर्डों ने अपने खिलाड़ियों के नए सालाना करार की घोषणा की. इनमें कोई भी बीसीसीआई की पिछले साल की करार राशि के आस-पास भी नहीं है लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं है कि भारतीय खिलाड़ियों की अपने बोर्ड से करार की राशि सबसे अधिक है. इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड अपने खिलाड़ियों पर ज़्यादा खर्च करता है जबकि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया भी जितनी कमाई करता है, उसका ज़्यादा बड़ा हिस्सा अपने खिलाड़ियों पर खर्च करता रहा है.

पिछले वर्षों में उसने एक साल के कुल रेवेन्यू का तकरीबन 25 फीसदी अपने खिलाड़ियों पर खर्च किया है जबकि बीसीसीआई सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट के ज़रिए अपने खिलाड़ियों पर अपने कुल रेवेन्यू का 5 फीसदी से भी कम खर्च करता है। यही वजह है कि दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड के खिलाड़ी इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों की तुलना में कम अनुपात में पैसा मिलने और अपनी मुद्रा के अवमूल्यन की वजह से सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में पिछड़ जाते हैं.

बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर काफी आगे

पिछले साल इंग्लैंड को वर्ल्ड कप दिलाने में बड़ा योगदान देने वाले बेन स्टोक्स की आमदनी बीसीसीआई के A+ खिलाड़ियों (विराट, रोहित और बुमराह) से कहीं अधिक है. बेन स्टोक्स को ईसीबी से सालाना कॉन्ट्रैक्ट के तहत 6,50 हज़ार पौंड मिलते हैं जबकि व्हाइट बॉल क्रिकेट से उन्हें करीब पौने तीन लाख पौंड की आमदनी होती है. यानी कुल 9,25,000 पौंड, जो INR में करीब साढ़े आठ करोड़ रुपये के आस-पास बनते हैं जबकि विराट, रोहित और बुमराह का करार सात करोड़ रुपये का है.

इसी तरह इंग्लैंड क्रिकेट की फास्ट बॉलिंग सनसनी जोफ्रा आर्चर का ईसीबी से सालाना करार एक मिलियन पौंड का है जो नौ करोड़ रुपये से भी अधिक बनते हैं. ज़ाहिर है कि ये राशि भी बीसीसीआई के A+ के तीनों खिलाड़ियों से ज़्यादा है. पिछले वर्षों में स्टीव स्मिथ और जो रूट ने भी अपने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से विराट कोहली से ज़्यादा धनराशि अर्जित की. इस साल उन्होंने कॉन्ट्रैक्ट राशि का खुलासा नहीं किया है.

Amit Mishra Exclusive Interview: सेलेक्टर मुझे ड्रॉप करते रहे और मैं चैलेंज की तरह लेता रहा : अमित मिश्रा

RP Singh Praveen Kumar Interview: इंडिया न्यूज से बातचीत में बोले आरपी सिंह और प्रवीण कुमार- इंजुरी को सही समय न देने से जल्द खत्म हुआ करियर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर