पोर्ट एलिजाबेथ: दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गई विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का बल्ला टेस्ट सीरीज और फिर वनडे के चार मैचों में खामोश रहा. लेकिन मंगलवार को पोर्ट एलिजाबेथ में खेले गए वनडे सीरीज के पांचवें मुकाबले में शानदार शतक जड़कर फॉर्म हासिल कर ली है. रोहित ने पांचवें मैच में शानदर 115 रनों की पारी खेलकर टीम को ऐतिहासिक जीत दिलाई. इस पारी के लिए उनको मैन ऑफ द मैच भी चुना गया. लेकिन इस मैच में रोहित अपने शतक से खुश नजर नहीं आए और जश्न भी नहीं मनाया. इसका खुलासा उन्होंने ने मैच के बाद किया कि क्या वजह थी कि उन्होंने अपनी खुशी को सेलिब्रेट नहीं किया.

रोहित ने मैच के बाद कहा कि पोर्ट एलिजाबेथ का पिच बहुत स्लो था. मुझे उम्मीद थी की मेजबान के लिए 275 रनों का लक्ष्य हासिल करना आसान नहीं होगा. हिटमैन ने कहा कि शतक लगाने के बाद मेरा पूरा ध्यान अपनी पारी को आगे बढ़ाने पर था. हालांकि मैं ऐसा करने में सफल नहीं हुआ. शतक के जश्न के सवाल पर रोहित ने कहा कि मेरे सामने टीम के कप्तान विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे रन आउट होकर वापस लौट गए थे. ऐसे में मैं अपने शतक का जश्न कैसे मनाता. मैं शतकीय पारी खेलने के बाद भी खुशी के मुड में नहीं था. रोहित अंत में कहा कि विदेशों में टीम इंडिया की यह सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले ऑस्ट्रेलिया में 2007 में सीरीज जीते थे. हालांकि वह जीत आसान नहीं थी.

दरअसल रोहित शर्मा और विराट कोहली के बीच तीसरे विकेट के लिए 105 रनों की साझेदारी हो चुकी थी. तभी रोहित के एक गलत कॉल के चक्कर में कोहली रन आउट हो गए. इसके बाद चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए अजिंक्य रहाणे आए तो वो भी रोहित के गलत कॉल की शिकार बने और 8 रने के व्यक्तिगत स्कोर पर पवेलियन लौट गए. ये दोनों ही रन आउट रोहित शर्मा की वजह से था. इस तरह से साउथ अफ्रीका को एक के बाद एक दो बड़ी सफलता हाथ लग गई. यहीं वजह रही कि रोहित शर्मा ने वनडे करियर का 17वां शतक लगाने के बाद भी सेलिब्रेट नहीं किया.

हिटमैन रोहित शर्मा ने उधेड़ी साउथ अफ्रीकी गेंदबाजों की बखिया, जड़ा 17वां वनडे शतक

India Vs South Africa: अफ्रीका को रौंदने के बाद बोले विराट कोहली, 5-1 से जीतेंगे सी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App