नई दिल्ली: लंबे अर्से बाद भारतीय दर्शकों को भारत-पाकिस्तान की कड़ी प्रतिद्वंदिता को देखने का मौका मिल सकता है. हालांकि यह मौका भारतीय दर्शकों को क्रिकेट नहीं बल्कि हॉकी के मैदान पर मिलने वाला है. दरअसल पाकिस्तान की टीम अगामी हॉकी विश्व कप में हिस्सा लेने भारत आ रही है, जो कि 28 नवंबर से 16 दिसंबर तक भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम में आयोजित किया जाएगा।

इससे पहले पाकिस्तानी हॉकी टीम लगभग 4 साल पहले भारत आई थी जब भुवनेश्वर में ही चैम्पियंस ट्रॉफी का आयोजन हुआ था. इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने भारत को 4-3 से मात दी थी. जीत के बाद पाकिस्तान के उत्साहित खिलाड़ियों ने मैदान पर बुरा व्यवहार किया था और शर्ट निकाल कर दर्शको की तरफ अश्लील इशारे किए थे. इस घटना के बाद से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय हॉकी सीरीज पर अघोषित पाबंदी सी लग गई थी. हालांकि अन्य वैश्विक टूर्नामेंट्स में ये दोनो टीमें आपस में भिड़ती आई हैं जिसमें फिलहाल भारत का पलड़ा भारी है.

आपको बता दें कि भारत तीसरी बार हॉकी विश्व कप की मेजबानी करने जा रहा है. इससे पहले 1982 में मुंबई में और 2010 में नई दिल्ली में इस टूर्नामेंट का आयोजन हुआ था. इस पुरुष हॉकी विश्व कप में कुल 16 टीमें हिस्सा लेंगी. इस टूर्नामेंट से पहले भारतीय टीम को सुल्तान अजलान शाह कप और कॉमनवेल्थ गेम्स में भी हिस्सा लेना है.

उधर ओडिशा सरकार भारतीय पुरुष और महिला हॉकी टीम की पांच साल के लिए प्रायोजक बन गई है. दिल्ली में आयोजित हॉकी इंडिया के एक कार्यक्रम में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने यह घोषणा की है. इस कार्यक्रम में उन्होंने भारतीय हॉकी टीम की नई जर्सी का भी अनावरण किया.

हॉकी इंडिया ने जूनियर महिला हॉकी शिविर के लिए 21 खिलाड़ियों का किया चयन, यूथ ओलंपिक खेलों के क्वालीफायर्स पर है नजर

संविधान में जिसने आदिवासियों को दिलाए अधिकार, उसी ने दिलवाया था भारत को पहला ओलम्पिक हॉकी गोल्ड