नई दिल्ली. देश के जाने-माने रेसलर बजरंग पूनिया को पद्मश्री के अवार्ड से नवाजा गया है. खेलों में उनके महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुए ये सम्मान दिया गया है. राष्ट्रपति भवन में आयोजित पद्म अवार्ड वितरण समारोह के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बजरंग पूनिया को पद्मश्री के अवार्ड से सम्मानित किया.

बजरंग पूनिया ने कुश्ती में दुनियाभर में भारत का नाम रोशन किया है. बजरंग पूनिया ने दुनिया के कई पहलवानों को पटखनी दी है. उन्होंने 60 से लेकर 70 किलो भार वर्ग में भारत का प्रतिनिधित्व किया है.

बजरंग पूनिया ने सबसे पहले साल 2013 में कुश्ती में पहला मेडल जीता. साल 2013 में एशियन रेसलिंग चैम्पियनशिप का आयोजन दिल्ली में किया तब बजरंग ने 60 किलो भार वर्ग में कांस्य पदक जीता था.

इसी साल यानी 2013 में ही बुडापेस्ट में वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में बजरंग पूनिया ब्रॉन्ज मेडल जीतने में सफल रहे. बजरंग पूनिया वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में अब तक 2 पदक जीत चुके हैं जिनमें 1 कांस्य और 1 रजत पदक शामिल है.

बजरंग पूनिया ने 2014 में ग्लास्गो में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान सिल्वर मेडल जीता. वहीं 2018 में गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में बजरंग पूनिया गोल्ड मेडल जीतने में सफल रहे.

साल 2014 में उन्होंने एशियन गेम्स में 61 किलो भार वर्ग में सिल्वर मेडल जीता. वहीं साल 2018 में एशियाई खेलों में बजरंग पूनिया ने 65 किलो भार वर्ग में गोल्ड मेडल पर कब्जा किया. साल 2017 में बजरंग पूनिया ने नई दिल्ली में आयोजित एशियन रेललिंग चैम्पियनशिप में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता.

बजरंग पूनिया कुल मिलाकर कुश्ती की विभिन्न प्रतियोगिताओं में अब तक 14 मेडल जीत चुके हैं. जिनमें 6 स्वर्ण, 5 सिल्वर और 3 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं. इस सबके बावजूद उन्होंने देश में आयोजित होनी वाली प्रो रेसलिंग लीग में भी अपने दांव-पेंच दिखाए हैं.

India vs Australia: मोहाली में ऋषभ पंत ने छोड़ी आसान स्टंपिंग, विराट कोहली हुए हैरान, स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने लगाए धोनी, धोनी के नारे, वीडियो

MS Dhoni on Match Fixing: महेद्र सिंह धोनी की नजर में हत्या से बड़ा अपराध है मैच फिक्सिंग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App