नई दिल्ली: टीम इंडिया के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा विजय हजारे ट्रॉफी में शतक जड़कर चर्चा में आ गए हैं. जड़ेजा ने झारखंड के खिलाफ शानदार पारी खेलने के बाद अपनी इस खुशी को व्यक्त करते हुए बोला कि उन्होंने अपनी पारी को अपने अनुसार खेला है. इंडियन एक्सप्रेस को दिए अपने इंटरव्यू में जडेजा ने कहा कि वे गेंदबाजी के साथ-साथ इस समय बल्लेबाजी पर अधिक ध्यान दे रहे हैं. आपको बता दें कि विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम इंडिया में युववेंद्र चहल और कुलदीप यादव के आने के बाद से ही लिमिटेड ओवर से जडेजा और आर अश्विन का पत्ता कट गया है.

जडेजा ने आगे कहा कि टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उनसे एक सम्पूर्ण बल्लेबाजी की तरह बेटिंग करने लिए प्रेरित किया था. जिससे की उनको बैटिंग करने के लिए और अधिक अवसर मिल सके. इसलीलिए उन्हें एक बल्लेबाज की तरह भी सोचना चाहिए. बता दें कि इंडियन प्रीमियर लीग में जडेजा महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली चेन्नई सुपर किंग्स टीम के सदस्य हैं. आईपीएल में सीएसके ने जडेजा को पहले की रिटेन कर लिया था. ऐसे में उनको एक बार फिर धोनी की कप्तानी में खेलने का अवसर प्राप्त होगा.

विजय हजारे ट्रॉफी में जडेजा ने झारखंड के खिलाफ मैच खेलते हुए अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दूसरा शतक जड़ा है. वो रनों का पीछा करते हुए हैं. आपको बता दें कि बल्लेबाजी में तो जडेजा ने बहुत सुधार किया है लेकिन गेंदबाजी में दिन पर दिन फ्लाप साबित होते जा रहे हैं. विजय हजारे ट्रॉफी की बात करे तो जडेजा ने अभी तक चार मैचों में गेंदबाजी की है लेकिन विकेट एक में भी नहीं मिला है. छत्तीसगढ़ के विरूद्ध 10 ओवर में 43 रन दिए एक विकेट नहीं मिला. जम्मू एंड कश्मीर के खिलाफ भी 10 ओवर की गेंदबाजी में विकेट नहीं मिला. हैदराबाद के खिलाफ 10 ओवर की गेंदबाजी में भी विकेट का खाता नहीं खुला. झारखंड के खिलाफ दो ओवर में 16 रन दिए लेकिन विकेट नहीं मिला.

India v South Africa, 5th ODI, Match Preview: ये हो सकती भारत की प्लेइंग इलेवन, इतिहास रचने की कोशिश करेगा भारत

Allan Border Medal Awards: स्टीव स्मिथ ने टेस्ट और डेविड वार्नर ने जीता प्लेयर ऑफ द ईयर का अवार्ड