नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आज अपना 38वां जन्मदिन मना रहे हैं. माही के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय क्रिकेट में काफी कुछ बदल दिया है जिसका ठीक-ठीक विश्लेषण कुछ सालों बाद हो सकेगा. स्टार प्लेयरों से सजी भारतीय टीम को प्रोफेशनल क्रिकेट युनिट बनाने वाले महेंद्र सिंह धोनी भारत के सबसे सफल विकेटकीपर हैं. सबसे सफल कप्तान हैं और सबसे सफल नंबर 6 बल्लेबाज भी. धोनी, झारखंड के रांची से आए और भारतीय क्रिकेट के सबसे बड़े ब्रांड अबेसडर बन गए. बहुत कुछ भारतीय क्रिकेट में पहली बार हुआ महेंद्र सिंह धोनी के आने के बाद. आज हम माही के जन्मदिन पर ऐसी ही कुछ कहानियां आपको पढ़वाते हैं.

छोटा शहर, बड़ा हौसला: महेंद्र सिंह धोनी ने जब क्रिकेट खेलना शुरू किया तब उन्हें बिहार की टीम में मौका मिला. उनकी परवरिश एक छोटे और खूबसूरत शहर रांची में हुई थी. सन 2000 में बिहार का बंटवारा हो गया और झारखंड नए राज्य के रूप में अस्तित्व में आया. महेंद्र सिंह धोनी का शहर, रांची अब झारखंड की राजधानी था. क्रिकेट में मुंबई, दिल्ली और कर्नाटक जैसे बड़े राज्यों का कब्जा था. इसके अलावा पंजाब, उत्तर प्रदेश और बंगाल के इक्के दुक्के खिलाड़ी भारतीय टीम में जगह पाते रहे. इन चुनिंदा बड़े राज्यों से खिलाड़ियों के आने का सबसे बड़ा कारण था खेल से जुड़ी बुनियादी सुविधाएं यहां बेहतर थीं. ऐसे में छोटे से शहर से निकल कर भारतीय टीम में जगह बनाने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने न सिर्फ टीम में अपनी जगह पक्की की बल्कि अपनी लीडरशिप के लिए दुनिया भर में मशहूर हुए.

आज भी दुनिया के सभी क्रिकेट दिग्गज माही को दुनिया का बेस्ट कैप्टन मानते हैं. धोनी को जिस एक चीज ने बाकियों से अलग की विशेषकर छोटे शहर से आने वाले अन्य खिलाड़ियों से वो थी आत्मविश्वास. महेंद्र सिंह धोनी बहुत अच्छी तकनीक के साथ बैटिंग नहीं करते हैं लेकिन दुनिया जानती है कि धोनी जब मैदान पर हों तब तक दूसरी टीम को अपनी जीत नजर नहीं आती. महेंद्र सिंह धोनी ने जिस तरह भारत और उसके बाद आईपीएल में चेन्नई की कप्तानी की, जिस तरह वो फेम और पैसा पाने के बाद बौराए नहीं, अपने आप को शांत और फोकस्ड रखा वो काबिल ए तारीफ है. धोनी एक पूरी पीढ़ी के हीरो हैं जो छोटे शहरों से अपनी आंखों में बड़े सपने लेकर निकलती है.

जब टीम इंडिया के दिग्गजों से भिड़े धोनी: महेंद्र सिंह धोनी को टी20 वर्ल्ड कप से पहले अचानक से टीम की कप्तानी सौंप दी गई. सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड, सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गजों के बिना महेंद्र सिंह धोनी इस टूर्नामेंट में उतरे. टीम में कई ऐसे अनजाने चेहरे थे जिन्हें क्रिकेट फैन्स जानते तक नहीं थे लेकिन धोनी ने वह कारनामा कर दिखाया जो इससे पहले कोई नहीं कर पाया था. पहले टी20 वर्ल्ड कप में भारत विश्व विजेता बना. महेंद्र सिंह धोनी, जिन्हें एक प्रयोग के तौर पर नए क्रिकेट फॉर्मेट का कप्तान बनाया गया था, सारे देश की आंखों के तारे हो गए. भारतीय टीम ने वर्ल्ड कप जीता था और यह कोई छोटी बात तो थी नहीं. लिहाजा धोनी के नेतृत्व पर चयनकर्ताओं ने भरोसा जताया. युवराज सिंह के छह बॉल पर छह छक्के मारने के कारण इस वर्ल्ड कप को कोई नहीं भूल सकता. इस वर्ल्ड कप ने भारत को धोनी जैसा कप्तान दिया. यह शायद वर्ल्ड कप से बड़ी कामयाबी थी.

28 साल बाद छ्क्का मारकर भारत को दिलाया विश्व कप : महेंद्र सिंह धोनी टी20 वर्ल्ड कप भारत को जिता चुके थे लेकिन भारत की ख्वाहिश तो थी वनडे वर्ल्ड कप जीतने की. 1983 में कपिल देव की अगुवाई में भारत वर्ल्ड कप जीता था. इसके बाद लगभग तीन दशक बीतने को आए थे. भारत 2011 वर्ल्ड कप में उतर रहा था. टीम में कई सीनियर खिलाड़ी नहीं थे. टी 20 वर्ल्ड कप में टीम के साथ कप्तान भी चुना गया था. 2011 वर्ल्ड कप में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी टीम चुनी थी. कैंसर से लड़ते युवराज सिंह के महान संघर्ष ने इस वर्ल्ड कप में भारत को जीत दिलाई. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर जो अपना आखिरी वर्ल्ड कप खेल रहे थे. उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में शानदार बल्लेबाज की. गौतम गंभीर ने वर्ल्ड कप के फाइनल में वो जरूरी पारी नहीं खेली होती तो भी हमारा जीतना मुश्किल हो सकता था. लेकिन जो लम्हा हर भारतीय की आंखों में बस गया वो तो है जब महेंद्र सिंह धोनी ने नुवान कुलशेखरा की गेंद पर छक्का मारकर भारत को विश्व विजेता बना दिया. इस लम्हे को भारतीय क्रिकेट का निर्णायक पल कहा जा सकता है. यहां से विश्व क्रिकेट में भारत के दबदबे का दौर शुरू हुआ.

Mahendra Singh Dhoni Birthday Gift India Win Sri Lanka: रोहित शर्मा, केएल राहुल, विराट कोहली का कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी को बर्थडे गिफ्ट, माही की बैटिंग के बिना इंडिया ने श्रीलंका को वर्ल्ड कप में हराया

ICC Cricket World Cup 2019 India vs Sri Lanka Jasprit Bumrah 100 Wickets: टीम इंडिया के यॉर्कर किंग जसप्रीत बुमराह ने श्रीलंका के खिलाफ वर्ल्ड कप मैच में रचा इतिहास, सबसे तेज 100 लेने वाले बने भारत के दूसरे गेंदबाज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App