दिल्लीः भारत के लीजेंड्री टेनिस खिलाड़ी जब-जब कोर्ट पर उतरते हैं, तब-तब कोई ना कोई रिकॉर्ड उनके नाम हो जाता है. हालांकि कई बार उन पर रिकॉर्डों के लिए भी खेलने का आरोप लगा है, लेकिन उन्होंने अपने खेल से बार-बार साबित किया है कि वे सिर्फ रिकॉर्ड के लिए ही नहीं जीत के लिए के लिए खेलते हैं. भारत और चीन के बीच चल रहे डेविस कप मुकाबले में उन्होंने फिर से इस बात को साबित कर दिया. उन्होंने डेविस कप मुकाबले में सबसे अधिक जीत का रिकॉर्ड बनाया.

पेस ने डेविस कप के इतिहास में रिकॉर्ड 43वीं जीत दर्ज की जो कि एक विश्व रिकॉर्ड है. पेस ने इटली के महान खिलाड़ी निकोल पैट्रीयांगली का रिकॉर्ड तोड़ा. निकोल के नाम कुल 42 जीत दर्ज था. लेकिन चीन के खिलाफ मुकाबले में जीत दर्ज कर पेस ने यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. पेस ने रोहन बोपन्ना के साथ जोड़ी बनाते हुए चीनी जोड़ी मो जिन जांग और जी झांग की को एक रोमांचक मुकाबले मे 5-7, 7-6(5), 7-6(3) से हराया. हालांकि पेस के लिए ये मुकाबला कतई आसान नहीं रहा.

लंबे समय बाद डेविस कप टीम में वापसी कर रहे और रोहन बोपन्ना के साथ जोड़ी बनाकर खेल रहे पेस को यह रिकॉर्ड जीत दर्ज करने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. पहला सेट तो वे चीनी जोड़ी से हार गए. अगले दो सेट में भी उन्हें चीनी जोड़ी के खिलाफ संघर्ष करना पड़ा हालांकि पेस ने अपने अनुभव का प्रयोग करते हुए दोनों सेट को जीत लिया. ये दोनों सेट टाई-ब्रेकर में गए. इस जीत के बाद भारत ने एशिया-ओसियाना ग्रुप के इस मुकाबले में वापसी की. इससे पहले चीन के खिलाफ भारत दोनों सिंगल मुकाबले हार गया था.

Commonwealth Games 2018: वेटलिफ्टिंग में भारत को गोल्ड दिलाने वाली संजीता चानू को उम्मीद मिलेगा अर्जुन अवॉर्ड!

लिएंडर पेस का भविष्य महेश भूपति के हाथ !

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App