मुंबईः रोहित शर्मा, हार्दिक पांड्या और जसप्रीत बुमराह इन तीनों के बिना सीमित ओवरों के भारतीय टीम की उम्मीद करना बेमानी है. तो सोचिए अगर ये तीनों एक साथ किसी आईपीएल टीम में हो तो क्या होगा? मुंबई इंडियंस आईपीएल में सबसे अधिक बार खिताब जीतने वाला टीम है. इन तीनों खिलाड़ियों के दम पर वह इस बार भी खिताब जीतने की सबसे प्रबल दावेदार है. लेकिन जहां यह तीनों खिलाड़ी इस टीम की सबसे बड़ी मजबूती हैं सबसे बड़ी कमजोरी भी हैं.

इन तीनों बड़े खिलाड़ियों को रिटेन करने के कारण टीम के पर्स में इतने पैसे ही नहीं बचें कि वह और बड़े खिलाड़ियों को खरीद सकें. बाकी बचा पैसा उन्होंने किरोन पोलार्ड और हार्दिक पांड्या के भाई क्रुणाल पांड्या के भाई को राईट टू मैच के तहत रिटेन करने में लगा दिया. इस वजह से टीम के मध्यक्रम में अनुभव की खासी कमी दिख रही है. युवा खिलाड़ियों के दम पर दबाव वाले मैचों में यह टीम क्लिक कर पाएगी या नहीं, इसकी गारंटी कोई भी क्रिकेट विशेषज्ञ नहीं दे सकता. हालांकि मध्यक्रम में डुमिनी की मौजूदगी एक स्थिरता प्रदान करेगी.

टीम की सलामी जोड़ी की बात की जाए तो कप्तान रोहित शर्मा के साथ ओपनिंग में आदित्य तरे या कैरेबियन एविन लुईस नजर आ सकते हैं. वहीं मध्यक्रम में जेपी डुमिनी, सौरभ तिवारी, क्रुणाल पांड्या, हार्दिक पांड्या, किरोन पोलार्ड, सूर्य कुमार यादव, सिद्धेश लाड और इशान किशन जैसे बल्लेबाज हैं. ये सभी बल्लेबाज क्रिकेट में काफी जाना-पहचाना नाम है लेकिन अनुभव की कमी के कारण ये बड़े मैचों में प्रदर्शन कर पाएंगे या नहीं, इस पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता.

क्रुणाल पांड्या, हार्दिक पांड्या, किरोन पोलार्ड, बेन कटिंग और जेपी डुमिनी की उपस्थिति के कारण टीम का आलराउंड विभाग काफी मजबूत नजर आ रहा है. वहीं स्पिन विभाग में टीम को अपने पुराने खिलाड़ी हरभजन सिंह की कमी पड़ सकती है. हालांकि टीम में जेपी डुमिनी और क्रुणाल पांड्या के रूप में कामचलाऊ स्पिनर्स और अनुकुल राय जैसे अनुभवहीन स्पिनर हैं पर टीम में एक फ्रंटलाइन स्पिनर की कमी जरूर खलेगी. विदेशी स्पिनर अकीला धनंजय इस कमी को पूरी करने की कोशिश करेंगे.

जसप्रीत बुमराह, पैट कमिंस, मुस्तफिजुर रहमान, जेसन बैनड्रॉफ और बेन कटिंग की मौजूदगी से टीम का तेज गेंदबाजी विभाग भी काफी मजबूत नजर आ रहा है. लेकिन एकादश में सिर्फ चार विदेशी खिलाड़ियों के नियम के कारण एक अच्छे भारतीय तेज गेंदबाज की कमी टीम को निश्चित रूप से खलेगी. इस फ्रेंचाइजी ने अनुभवी भारतीय खिलाड़ियों को नीलामी में ना खरीद कर एक बड़ी गलती की है. इसका असर इनके प्रदर्शन पर दिख सकता है. अब देखना यह होगा कि तीन फ्रंटलाइन भारतीय क्रिकेटरों और विदेशी खिलाड़ियों की बदौलत यह टीम क्या अपना खिताब बरकरार रख पाएगी.  

IPL Season 11Team Analysis: अनुभवी खिलाड़ियों के होश और युवा खिलाड़ियों के जोश के दम पर खिताब जीतने उतरेगी दिल्ली डेयरडेविल्स

IPL 2018: किंग्स इलेवन पंजाब ने लॉन्च की टीम की नई जर्सी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App