नई दिल्ली. बॉल टेंपरिंग के बाद ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर ने अपनी आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान पद से इस्तीफा दे दिया है. ये आईपीएल शुरू होने से कुछ दिन पहले हैदराबाद के लिए बहुत बड़ा झटका है, बीसीसीआई और टीम मालिको ने फैसला लिया है कि स्मिथ और वॉर्नर को आईपीएल में खेलने की इजाजत नहीं मिलेगी . वैसे सच कहें तो डेविड वॉर्नर, बल्लेबाज है तो ऑस्ट्रेलिया का लेकिन ये जान है आईपीएल की टीम सनराइजर्स हैदराबाद की. हैदराबाद की टीम में ये एक ऐसा बल्लेबाज है जो हर मौके पर आगे आकर टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करता है. टीम जब मुश्किल में फंसी हो तो एक समझदार बल्लेबाज की तरह पूरे 20 ओवर खेलने की कोशिश करता है और जब तूफानी बल्लेबाजी की बारी आती है तो इन्हे रोकना वैसे ही ना मुमकिन हो जाता है.

अगर पिछले सीजन की बात करें तो सीजन में भी वॉर्नर ने लगातार अपनी टीम के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन किया. कई बार हुआ है कि उनकी टीम बीच मझधार में थी और उन्होने न केवल अपनी टीम को मुश्किल से उबारा बल्कि अपनी टीम को जीत दिला कर ही दम लिया. पिछले सीजन में वॉर्नर ने अब तक 14 मैच खेले हैं और 58 से ज्यादा की औसत से 641 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होने 142की स्ट्राइक रेट से रन बनाए. इन 14 मैच में उन्होने 1 शतक और 4 फिफ्टी भी लगाई.
वैसे पिछले सीजन की की बात क्यों करें. अब तक हर सीजन में इस बल्लेबाज ने अपने बल्ले का दम दिखाया है. अगर वॉर्नर के आईपीएल करियर के बात करे तो 114 मैचों में इस बल्लेबाज ने 4014 रन बनाए हैं. वह भी 40 की शानदार औसत से. इतनी शानदार औसत के बावजूद उन्होने 142.13 स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं. वॉर्नर अब तक आईपीएल में 3 शतक और 36 अर्धशतक भी लगा चुके हैं.

ये तो बात हुई उनकी बल्लेबाजी की. अब बात उनकी कप्तानी की भी कर लेते हैं. वॉर्नर एक ऐसे खिलाड़ी है जो दबाव में अच्छा प्रदर्शन करते हैं. तभी तो उन्हे जब 2016 में हैदराबाद की कमान सौंपी तो उनके प्रदर्शन में जबरदस्त निखार आया. उस साल उन्होंने विराट कोहली के बाद सबसे ज्यादा रन बनाए. उनके 848 रन की बदौलत ही हैदराबाद चैंपियन बना था. बल्ले से तो उन्होने अच्छा प्रदर्शन किया ही बल्कि कप्तानी से भी उन्होने सबको प्रभावित किया. हर खिलाड़ी के साथ उनका व्यवहार काफी अच्छा रहता है. जब युवराज सिंह और केन विलियम्सन जैसे दिग्गज उनकी कप्तानी का लोहा मानते हो तो खुद अंदाजा लगाए कि वह किस अंदाज के कप्तान होंगे.
लेकिन अब समय बदल गया है, उनकी एक गलती ने उनके क्रिकेट करियर पर सवाल उठा दिए हैं. अभी तो आईपीएल में उनकी कप्तानी गई है लेकिन बल्लेबाज के रूप में ही वह टीम को महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं. 

IPL 2018: पहली बार आईपीएल इतिहास में होगा कुछ ऐसा कि खुश हो जाएंगे भारतीय फैंस

बॉल टेम्परिंग विवाद : स्टीव स्मिथ के बाद डेविड वार्नर ने भी छोड़ी आईपीएल टीम की कप्तानी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App