दिल्लीः दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में आईपीएल में होने वाले मैचों पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा है कि अगर वह फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के ओल्ड हाउस क्लब को एनओसी दे देता है तो इसके लिए पूरी तरह से जिम्मेदारी दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) की होगी. बताया जा रहा है कि ओल्ड हाउस क्लब में ही प्रसारक अपने उपकरण रखते हैं, जिससे मैचों का सीधा लाइव प्रसारण टीवी पर होता है. वहीं डीडीसीए का कहना है कि बिना ओल्ड हाउस क्लब को एनओसी दिए हुए दिल्ली में आईपीएल मैचों का आयोजन संभव नहीं है.

वृहस्पतिवार सुबह हुई सुनवाई के अनुसार दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि अगर कोर्ट ओल्ड क्लब हाउस को आईपीएल मैचों के लिए संरचनात्मक रूप से मजबूत होने का प्रमाणपत्र देता है तो फिर किसी भी तरह की दुर्घटना होने पर पूरी जिम्मेदारी स्थानीय निकाय यानी दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की होगी. कोर्ट ने कहा कि अगर यह ढांचा गिर जाता है और किसी तरह के जानमाल का नुकसान होता है तो इसकी जिम्मेदारी निगम और डीडीसीए संयुक्त रुप से होगी.

इस संबंध में एसडीएमसी के अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने एक सलाहकार की सेवाएं ली हैं, जिन्होंने ओल्ड हाउस क्लब की ढांचागत स्थिरता को लेकर एक अंतरिम रिपोर्ट दी है. अभी यह रिपोर्ट प्रक्रिया में है और डीडीसीए से शपथपत्र लेने के बाद अंतिम रिपोर्ट सार्वजनिक रुप से उपलब्ध हो जाएगी. वहीं डीडीसीए का कहना है कि अगर ओल्ड क्लब हाउस का उपयोग प्रसारण उपकरण रखने और संबंधित व्यक्तियों के लिये नहीं किया जाता है तो फिर 23 अप्रैल से होने वाले आईपीएल मैचों का आयोजन स्टेडियम में नहीं हो पाएगा. गौरतलब है कि 23 अप्रैल को फिरोजशाह कोटला मैदान में किंग्स इलेवन पंजाब और दिल्ली डेयर डेविल्स के बीच मैच निर्धारित है. यह दिल्ली का पहला होम मैच होगा. इस मामले में अगली सुनवाई 20 अप्रैल को निर्धारित होगी. तभी कुछ स्पष्ट हो पाएगा.

वंदे मातरम् प्रेमियों को जेल भेजने वाले अंग्रेज को गोली से उड़ा दिया था अठारह साल के इस नौजवान ने

VIDEO: जब दिनेश कार्तिक ने हवा में उड़कर की स्टम्पिंग, लोगों ने कहा- डीके बन गया सुपरमैन

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर