तिरुवनंतपुरम. भारत और वेस्टइंडीज के बीच तिरुवनंतपुरम में खेले गए टी20 इंटरनेशनल मैच में मेहमान विंडीज टीम ने टीम इंडिया को 8 विकेट से हरा दिया. इस जीत के साथ ही वेस्टइंडीज ने तीन मैचों की सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली. सीरीज का तीसरा और फाइनल मैच मुंबई में 11 दिसंबर को खेला जाएगा. दोनों टीमों के लिए ये मुकाबला काफी अहम होगा. क्योंकि इस मैच को जीतने वाली टीम ट्रॉफी उठाएगी. तिरुवनंतपुरम के ग्रीनफील्ड स्टेडियम में खेले गए मैच में कैरेबियन टीम ने भारत को एकतरफा मुकाबले में हराया. आइए हम आपको बताते हैं की भारतीय टीम की हार के सबसे बड़े पांच कारण कौन से रहे.

रोहित शर्मा

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज पिछले काफी समय में टी20 क्रिकेट में उस दर्जे का प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं जैसा उम्मा प्रदर्शन वह वनडे मैचों में करते रहे हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए दूसरे मैच में भी रोहित शर्मा फ्लाप रहे. इस मैच में रोहित ने 18 गेंदों पर 15 रन बनाए. इस दौरान वह जब तक क्रीज पर रहे तो संघर्ष करते नजर आए. भारत की हार में सबसे बड़ा कारण रोहित का न चल पाना है. रोहित शर्मा पिछले 5 टी20 इंटरनेशनल मैचों में 9, 85, 2, 8 और 15 का स्कोर बना पाए हैं.

श्रेयस अय्यर

श्रेयस अय्यर ने बांग्लादेश के खिलाफ कुछ अच्छी पारियां खेलकर एक उम्मीद जगाई थी. लेकिन वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए दो मैचों में उनका ऑर्डर चेंज किया गया. जिसके चलते वह वैसा प्रदर्शन नहीं कर पाए जैसा पिछले मैचों में बल्लेबाजी करते हुए किया था. एक बल्लेबाज जो जिस ऑर्डर में खेलता है उसे उसी क्रम पर बैटिेंग के लिए उतारना चाहिेए. क्योंक श्रेयस के पास इंटरनेशनल क्रिकेट का इतना अनुभव नहीं कि उन्हें जिस ऑर्डर पर भेज देंगे वह उस पर खरे उतरेंगे.

रवींद्र जडेजा

रवींद्र जडेजा ने भारत के लिए 46 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले जरूर हैं लेकिन उन्हें इस दौरान बल्लेबाजी करने का मौका कम मिला. अगर मौका मिला भी तो वह बैटिंग में बहुत सफल नहीं रहे. तिरुवनंतपुरम क्रूशिएल मैच में जब जडेजा को मैच में जौहर दिखाने का मौका मिला लेकिन वह सफल नहीं रहे. जडेजा को अक्सर ऐसे समय में बल्लेबाजी करने के लिए भेजा जाता है जब उनके पास मैच गेंदे बहुत कम होती है. ऐसे में उनके ऊपर प्रेसर ज्यादा होता है. यही कारण रहा कि वह मैच में 9 रन बनाकर आउट हो गए.

विराट कोहली

वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम इंडिया का दूसरे मैच में हार का सबसे बड़ा कारण विराट कोहली का रहा. विराट जिस मैच में चल जाते हैं टीम इंडिया ज्यादातर उस मैच को जीत जाती है. तिरुवनंतपुरम टी20 मैच में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए जिसके चलते वह उस तरह की बैटिंग नहीं कर पाए जैसी बल्लेबाज उन्होंने हैदराबाद में की थी. विराट दूसरे मैच में अगर चल जाते तो भारत कुछ ऐसा टारगेट सेट करे में सफल होता जिसे चेस करने में वेस्टइंडीज टीम को मुश्किल होती

बॉलिंग

दूसरे मैच में हार एक और कारण रहा वह गेंदबाजी का. दीपक चाहर वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले दो मैचों से संघर्ष कर रहे हैं. पहले मैच में दीपक ने बहुत रन लुटाए थे. वहीं दूसर मैच में भी उन्होंने 10 औसत से खर्च किेए. बेहतर होता कि इस हरे मैदान पर मोहम्मद शमी को मौका दिया जाता तो हो सकता वह कैरेबियन बल्लेबाजों पर अंकुश लगाने में सफल होते. मोहम्मद शमी ने टेस्ट और वनडे में साल 2019 में बेहतरीन बॉलिेंग की है.

फील्डिंग

तिरुवनंतपुरम में टी20 मैच में भारत की फील्डिंग बहुत ही लचर रही. भारतीय फील्डर्स की ओर से कई ऐसे कैच छोड़े गए जिन्हें आसानी से पकड़ा जा सकता था. इस मैच में रोहित शर्मा और वाशिंगटन सुंदर से कैच छूटे. अगर ये कैच पकड़े गए होते तो इस मैच का रुख पलट सकता था. भारत को तीसरे मैच में अपनी फील्डिंग पर ध्यान देना होगा.

Also Read:

India Vs West Indies 2nd T20I: वेस्टइंडीज ने भारत को तिरुवनंतपुरम टी20 मैच में 8 विकेट से हराकर 1-1 से बराबर की सीरीज, लिंडले सिमन्स बने प्लेयर ऑफ द मैच

Pakistan Squad Against Sri Lanka: पाकिस्तान ने श्रीलंका टेस्ट सीरीज के लिए किया टीम का ऐलान, 10 साल बाद फवाद आलम की एंट्री

Amitabh Bachchan on Virat Kohli Notebook Gesture: विंडीज के खिलाफ विराट कोहली के पर्चीफाड़ वीडियो पर अमिताभ बच्चन ने फिल्मी स्टाइल में जताई खुशी, कहा- कितनी बार बोला मई तेरे को कि मत छेड़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर