नई दिल्ली. ओवल के मैदान पर डेब्यू टेस्ट मैच में अर्धशतक ठोंक कर हनुमा विहारी ने अपने टेस्ट करियर का शानदार आगाज किया. हनुमा विहारी की अर्धशतकीय पारी के चलते भारत अपनी पहली पारी में 292 रनों तक पहुंच सका. उन्होंने रविंद्र जडेजा के साथ 77 रनों की पार्टनर्शिप कर भारत को संकट से निकाला था. टीम इंडिया के लिए बल्लेबाज हनुमा विहारी ने 56 रनों की यादगार पारी खेली थी.

हनुमा विहारी ने अपनी इस अर्धशतकीय पारी के बाद बताया, इस पारी के पीछे अंडर 19 टीम के कोच राहुल द्रविड़ की सलाह की अहम भूमिका है. उन्होंने कहा कि डेब्यू से पहले मैंने अंडर 19 के कोच राहुल द्रविड़ को फोन किया, मैंने द्रविड़ को बताया कि मैं डेब्यू करने वाला हूं, राहुल द्रविड़ ने मुझसे कुछ मिनट बात की जिससे मेरी नर्वस कम हुई. विहारी के मुताबिक, राहुल द्रविड़ ने मुझे धैर्य और संयम रखने की सलाह दी, द्रविड़ ने मुझसे कहा कि मेरे पास तकनीक और संयम है मुझे मैदान पर जाकर बल्लेबाजी का लुत्फ उठाना चाहिए.

हनुमा विहारी ने आगे कहा कि मैं पूरी ईमानदारी से कह रहा हूं जब मैं जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड का सामना कर रहा था तो मैं काफी घबराया हुआ था. विहारी ने अपने बयान में कहा, जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड विश्व स्तरीय गेंदबाज हैं, इन दोनों ने मिलकर 990 विकेट लिए हैं. गौरतलब है हनुमा विहारी डेब्यू टेस्ट मैच में अर्धशतक लगाने वाले भारत के 26वें खिलाड़ी हैं. वहीं विहारी मात्र भारत के चौथे बल्लेबाज हैं जिन्होंने इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट डेब्यू करते हुए अर्धशतक लगाया है.

India vs England: इंग्लैंड में टीम इंडिया के प्रदर्शन की हो सकती है समीक्षा, COA प्रमुख विनोद राय ने दिया ये बयान

Ind vs Eng 5th test: विराट कोहली ने तोड़ा ब्रायन लारा का रिकॉर्ड, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज 18,000 रन बनाने वाले बनें पहले खिलाड़ी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App