Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

 Green Tea पीने के फायदे जानकर, आज से पीना कर देंगे शुरू

0
Green tea benefits: ग्रीन टी (Green tea) से होने वालों फायदों को लेकर तमाम दावे किए जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ग्रीन...

इन सवालों से समझें पूरे गुजरात चुनाव का गणित: क्यों AAP का दिल्ली मॉडल...

0
गाँधीनगर: यदि गुजरात में इस ऐतिहासिक भाजपा जीत के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के अलावा कोई महत्वपूर्ण कारण है, तो वह है...

Himachal Election Result 2022: अन्य के खाते में आई 3 सीटे, जाने किसने की...

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है।कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

हिमाचल से जीतने के बाद कांग्रेस विधायकों की चंडीगढ़ में बैठक, राजस्थान या छत्तीसगढ़...

0
नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पहले यहां चंडीगढ़ में जीते हुए विधायक...

Himachal Election Result 2022: कांग्रेस ने मारी बाजी, जाने हर सीट के नतीजे

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है। कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

बेटी के सपनो के लिए पिता ने छोड़ी थी नौकरी, गोल्ड हासिल करने वाली नीतू ने खूब किया संघर्ष

नई दिल्ली: बॉक्सिंग में भी अब भारत पर मेडल की बरसात हो रही है। रविवार को खेले गए फाइनल मुकाबले में भारत की Nitu Ghanghas ने इंग्लैंड की बॉक्सर को मात दे दी है, 48 किलोग्राम वाले वर्ग में हरियाणा की इस बॉक्सर ने इतिहास रचा है। सभी जज ने इस मैच में नीतू के हक में फैसला दिया और 5-0 से स्वर्ण पदक भारत के नाम हुआ। लेकिन क्या आप जानते हैं, नीतू ने ये मुकाम कैसे हासिल किया।

कौन हैं नीतू भिवानी ?

नीतू भिवानी की रहने वाली हैं। उन्होंने विजेंदर सिंह को देखकर बॉक्सर बनने का सपना देखा था।साल 2012 में उन्होंने अपने खेल के सफर की शुरुआत की थी। हालांकि शुरुआत अच्छी नहीं हुई थी। वह स्टेट लेवल पर 3 साल तक कुछ कमाल नहीं कर पाई थी। लेकिन उनके पिता ने उनके हौंसले को कम नहीं होने दिया। नीतू के पिता हर वक्त अपनी बेटी के साथ रहते थे।

पिता ने नहीं छोड़ा बेटी का साथ

नीतू के पिता खेल का खर्चा उठाने में खूब संघर्ष कर रहे थे। पिछले चार साल से वह छुट्टी पर हैं जिसके लिए उन्हें नोटिस भी मिला है। बेटी के साथ रहने के कारण वह नौकरी पर नहीं जा पा रहे थे। ऐसे में पैसों की बहुत तंगी भी हुई थी। जय भगवान ने अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से कर्ज लिया हुआ था। कर्ज चुकाने के लिए उन्हें अपनी कार तक बेचनी पड़ी थी। वह अपनी बेटी की ट्रेनिंग में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे।

साल 2015 में एक एक्सीडेंट के कारण उनकी सर्जरी हुई थी। इस दौरान उन्हें काफी दर्द का सामना करना पड़ा था। हालांकि पिता यहां भी बेटी के साथ देते हुए नजर आए थे। वहीं साल 2019 में वह फिर चोटिल हो गई थी जिसके बाद उन्होंने रिंग से दूरी बना ली थी। कोरोना के दौरान नीतू खेतों में प्रेक्टिस करती थीं।

नीतू को करियर की पहली बड़ी कामयाबी मिली थी साल 2016 में। जी हाँ! ग्वालियर में हुए स्कूल गेम्स में नीतू ने गोल्ड मेडल हासिल किया था। वहीं उसी साल गुवाहाटी में वर्ल्ड यूथ चैंपियन भी रहीं। इसके बाद एशियन यूथ चैंपियनशिप में भी गोल्ड जेता। साल 2021 में उन्होंने सीनियर टीम में वापसी की और इसी साल स्ट्रैंजा मेमोरियल में मेडल अपने नाम किया था। और अब तो नीतू कॉमनवेल्थ चैंपियन भी बन चुकी हैं।

 

Latest news