गोल्ड कोस्टः गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स समाप्त हो चुके हैं. खेलों के आखिरी दिन बैडमिंटन के महिला एकल के ऑल इंडिया फाइनल में साइना नेहवाल ने पी वी सिंधु को  21-18, 23-21 से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया. गोल्ड मेडल जीतने के बाद साइना नेहवाल ने अपने आलोचकों पर जम कर निशाना साधा है. साइना ने कहा कि अगर मैं फाइनल नहीं जीत पाती तो कई लोग मुझे संन्यास लेने की सलाह तक दे देते.

साइना ने कहा फाइनल मैच से पहले मुझ पर बहुत सारा दबाव था. भारत में एक मैच हारने के बाद ही लोग आप को संन्यास ले लेने तक की सलाह देते हैं. ऐसा चीन में नहीं होता. साइना ने कहा कि सिंधु ने मैच हारा होता तो कोई बात नहीं होती. लोग कहतें कि अभी उसके पास समय है. लेकिन अगर मैं मैच हारती तो लोग ‘साइना की उम्र हो गई है, वह अब अच्छा नहीं खेल पाती, उसके अब पैर नहीं चलते टाइप की बातें करते. शुक्र है कि मैं मैच जीत गईं.

गेम्स के पहले अपने पिता के खेल गांव में प्रवेश को लेकर हुए विवाद पर भी साइना ने अपनी सफाई दी. भावुक साइना ने कहा कि अगर वह मेरे साथ नहीं होते तो मैं आज ये मेडल नहीं जीत पाती. साइना ने कहा कि वे मेरे प्रेरणा के स्त्रोत हैं और अगर वह ही खेल गांव से बाहर रहते तो मैं कैसे परफॉर्म कर पाती. साइना ने कहा कि उन्हें हमारे डाइनिंग हॉल तक भी नहीं आने दिया जा रहा था. यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण था.

CWG 2018: ऑल इंडिया फाइनल में साइना नेहवाल ने मारी बाजी, पी वी सिंधु को सिल्वर से करना पड़ा संतोष

CWG 2018: दुश्मनों के छक्के छुड़ाने वाली भारतीय सेना ने कॉमनवेल्थ में किया धमाका, जीते 10 से ज्यादा पदक

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App