नई दिल्लीः एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाले शॉट पुटर तेजिंदर पाल सिंह तूर के पिता का कैंसर से निधन हो गया. वह लंबे समय से कैंसर जैसी घातक बीमारी से पीड़ित थे. सबसे बड़ी दुःख की बात यह रही कि तेजिंदर पाल सिंह अपने पिता के आखिरी दर्शन नहीं कर सके. वह एशियन गेम्स से लौटकर एयरपोर्ट से होटल के रास्ते में ही थे कि उनके पिता की मृत्यु की खबर आ गई. इस तरह तजिंदर के पिता का बेटे का गोल्ड मेडल देखने का सपना अधूरा रह गया. वह कैंसर से काफी वक्त से लड़ रहे थे. तूर अपने पिता के अपना गोल्ड मेडल देकर उन्हें खुशी देना चाहते थे लेकिन यह सब अधूरा रह गया.

आपको बता दें कि तेजिंदर के पिता करण सिंह 2015 से ही कैंसर से लड़ाई लड़ रहे थे. सबसे पहली बार उन्हें स्किन कैंसर हुआ था. उनके स्किन कैंसल का ईलाज तो हो गया लेकिन एक साल बाद पता चला कि उन्हें बोन कैंसर भी है. इस बार उनके कैंसर का पता चौथी स्टेज में चला जो पूरे शरीर में फैलते हुए उनके मस्तिष्क तक जा पहुंच चुका था. हालांकि उनका नियमित ईलाज चल रहा था. चूंकि तेजिंदर नेवी में जॉब करते हैं, इसलिए उनके पिता के इलाज का खर्च नेवी ही उठा रही थी.

भारतीय एथलेटिक्स संघ (एएफआई) ने तेजिंदर के पिता के निधन पर शोक व्यक्त किया है. एएफआई ने ट्वीट करते हुए लिखा कि हम गहरे सदमे में हैं. तेजिंदर एयरपोर्ट से होटल जाने के रास्ते पर ही थे, तभी उनके पिता के निधन की खबर मिली. उनकी आत्मा को शांति और तजिंदर व उनके परिवार को इस दुःख को सहने की शक्ति मिले.

एशियन गेम्स 2018: तेजिंदरपाल सिंह ने गोला फेंक में भारत को दिलाया गोल्ड, बनाया रिकॉर्ड