नई दिल्लीः भारत की टेनिस टीम 2018 के एशियाड में जब जकार्ता-पालेमबांग में उतरेगी, तो उसके साथ उनकी सबसे सफल महिला खिलाड़ी सानिया मिर्जा नहीं होंगी. सानिया मिर्जा मां बनने वाली हैं और इस समय टेनिस कोर्ट से बाहर चल रही हैं. इसके अलावा 2014 इंच्योन एशियाई खेलों के सफल खिलाड़ी यूकी भांबरी भी टीम में नहीं होंगे. उन्हें भारतीय टेनिस एसोसिएशन ने यूएस ओपन में क्वालीफाई करने की संभावना को देखते हुए एशियाई गेम्स से आराम देने का निर्णय किया है. लेकिन इस बार भारतीय टेनिस इतिहास के सबसे सफल खिलाड़ी लिएंडर पेस टीम के साथ हैं.

पेस 12 सालों बाद एशियाई खेलों में हिस्सा लेंगे. इससे पहले उन्होंने 2006 के दोहा एशियाई खेलों में उन्होंने हिस्सा लिया था. तब उन्होंने भारतीय टीम के लिए दो गोल्ड मेडल जीते थे. उन्होंने अपने सबसे सफल जोड़ीदार महेश भूपति के साथ पुरूष डबल्स का और सानिया मिर्जा के साथ मिक्स्ड डबल्स का स्वर्ण पदक जीता था. इसके बाद वह विभिन्न कारणों से 2010 और 2014 के एशियाई खेलों में नहीं खेल पाए थे. लेकिन इस बार उन्होंने फिर से टीम में वापसी की है.

पेस पुरूष डबल्स में रोहन बोपन्ना के साथ जबकि मिक्स्ड डबल्स में अंकिता रैना के साथ जोड़ी बनाएंगे. भारतीय टीम जब कोर्ट में उतरेगी तो वह 2014 के अपने प्रदर्शन में सुधार करने की कोशिश करेगी. 2014 में भारतीय टीम 1 गोल्ड, 2 सिल्वर और 1 ब्रॉन्ज के साथ चीनी ताइपे के बाद दूसरे नंबर पर रही थी. एशियाई खेलों के लिए 12 सदस्यीय टीम इस प्रकार है-

पुरूष टीम- रामकुमार रामनाथन, प्राजनेश गुनेश्वरन, सुमित नागल, रोहन बोपन्ना, दिविज शरण और लिएंडर पेस

महिला टीम- अंकिता रैना, करमन कौर थांडी, रूतुजा भोषले, प्रांजल यडलपल्ली, रिया भाटिया और प्रार्थना थोम्बरे

VIDEO: बेबी बंप के साथ सानिया मिर्जा ने खेला टेनिस, वीडियो हुआ सोशल मीडिया पर वायरल

लीजेंड लिएंडर पेस का एक और विश्व रिकॉर्ड, डेविस कप डबल्स मैचों में दर्ज की 43वीं जीत