नई दिल्ली. इंडोनेशिया में आयोजित होने वाले 18वें एशियाई खेलों में हिस्सा लेने पहुंचे भारतीय खिलाड़ियों ने कमर कस ली है. इस बार भारत को एशिाई खेलों में ज्यादा से ज्यादा पदक की उम्मीद होगी. 18 अगस्त से 2 सितंबर तक एशियाई गेम्स इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता और पालेमबांग में खेले जाएंगे. इस बीच भारत के ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा ने खुद को बिते जमाने का प्लेयर बताया है.ओलिंपिक स्वर्ण पदक निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने कहा कि देश को उनकी सफलता के बारे में चर्चा करने के बजाय अगले चैंपियन को तलाशने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

अभिनव बिंद्रा ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में 10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में व्यक्तिगत गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा था. जेएसडब्ल्यू के इन्सपायर इंस्टिट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (आईआईएस) के उद्घाटन के अवसर पर उन्होंने कहा कि खेल में गुजरे वक्त का महत्व नहीं होता. मैं गुजरे वक्त का प्लेयर हूं, जो अगले ओलंपिक चैंपियन की तलाश कर रहा हूं. उन्होंने कहा हमें अगले स्वर्ण पदक विजेता को तलाशने पर कार्य करना चाहिए, यहां जो सुविधाएं हैं वे अगले उभरते चैंपियन की प्रतिभा को निखारने के लिए हैं.

भारत ने 1951 में पहली बार एशियाई खेलों की मेजबानी की थी. बता दें कि इस बार 8 नए खेलों को जोड़ा गया है. इन खेलों में कराते, कुराश, पेंचक सिलाट, रोलर स्केटिंग, सेपकटकरा, ट्रॉयथलान, सॉफ्ट टेनिस शामिल हैं. भारत के स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को 18 अगस्त को एशियाई खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया है.

एशियन गेम्स 2018: गोल्डन उम्मीदों के साथ इंडोनेशिया रवाना हुए भारतीय मुक्केबाज

एशियन गेम्स 2018ः जकार्ता पालेमबांग में 8वां गोल्ड कब्जाने उतरेगी भारतीय पुरूष कबड्डी टीम

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App