नई दिल्ली. इंडोनेशिया में आयोजित होने वाले 18वें एशियाई खेलों में भाग लेने के लिए भारतीय मुक्कबाजों को दल इंडोनेशिया रवाना हो गया है. 18 अगस्त से 2 सितंबर तक एशियाई खेल इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता और पालेमबांग में खेले जाएंगे. भारत को मुक्केबाजी में अपने मुक्केबाजों से पदक की उम्मीदे हैं.भारतीय मुक्केबाजी महासंघ यानी बीएफआई ने एशियाई खेलों में हिस्सा लेने जा रहे भारत के 10 मुक्केबाजों सहित सहयोगी स्टाफ को जोरदार विदाई दी.

भारतीय दल को शुभकामना संदेश देने वालों में भारतीय खेल प्राधिकरण की महानिदेशक नीलम कपूर बीएफआई प्रेसीडेंट अजय सिंह, सीओ राजगोपालन, बीएफआई सदस्य निर्वान मुखर्जी भी शरीक हुए. भारत के इन 10 मुक्केबाजों के जत्थे में 3 महिला मुक्केबाज शामिल हैं. ये सभी महिला मुक्केबाज एशियन गेम्स में पहली बार शिरकत कर रही हैं.

भारतीय मुक्केबाजों से इस बार पदक की काफी उम्मीदें हैं. हाल ही में जर्मनी में आयोजित केमेंस्ट्री कप में इंडियन बॉक्सर्स ने शानदार प्रदर्शन किया जिसके कारण सभी मुक्केबाज आत्मविश्वास से भरे नजर आ रहे थे. भारतीय मुक्केबाजों को एशियाई खेलों से पहले कई अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में हाथ आजमाने का मौका मिला.

2010 दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों गोल्ड मेडल जीतने वाले विकास कृष्णन पत्रकारों से बात करते हुए आत्मविश्वास से लबरेज थे. विकास का कहना था कि वह 75 किग्रा वर्ग में पदक जीतने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं. विकास ने आगे कहा, हम इससे अच्छी तैयारी की नहीं सोच सकते थे. हमें तैयारी करने का अच्छा मौका मिला। हमने कॉमनवेल्थ गेम्स से लौटने के साथ तैयारी शुरू कर दी थी। मुझे भरोसा है कि हम अधिक से अधिक पदक जीत सकेंगे.

एशियन गेम्स 2018 में मुक्केबाजी के मुकाबले 24 अगस्त से लेकर 1 सितंबर तक होंगे. एशियाई खेलों में पहली बार मुक्केबाजी में हि्स्सा लेने जा रही सोनिया लाठेर काफी खुश नजर आईं. सोनिया ने कहा वह पहली बार एशियाड में हिस्सा लेने जा रही हैं और खुद से बहुत उम्मीदें रखती हैं.

राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता और 5 बार की विश्व चैंपियन महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम चोट कारण 18वें एशियाई खेलों में हिस्सा नहीं ले रही हैं. मैरीकॉम ने साल 2018 में ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए राष्ट्रमंडल खेलों में 48 किग्रा वर्ग स्वर्ण पदक जीता था.

एशियन गेम्स 2018: जकार्ता में गोल्ड मेडल पर निशाना साधेंगी शूटर हिना सिद्धू

एशियन गेम्स 2018: सानिया मिर्जा की अनुपस्थिति में लिएंडर पेस और रोहन बोपन्ना पर होगी 2014 की स्वर्णिम प्रदर्शन दोहराने की जिम्मेदारी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App