नई दिल्ली. एशियन गेम्स शुरू होने में कुछ ही दिन बाकी हैं. हर चार साल बाद होने वाले इन खेलों का आयोजन इस बार इंडोनेशिया में किया गया है. खेलों के इस महाकुंभ का आरंभ 18 अगस्त से होगा. भारत 2018 के एशियाई खेलों में अधिक से अधिक झोली में डालने के उद्देश्य से उतरेगा. अन्य खेलों के तरह भारत को बैडमिंटन में पदक जीतने की पूरी उम्मीदें हैं. भारत की तरफ से पीवी सिंधू अपने देश को स्वर्णिम सफलता दिलाने के लिए पूरी ताकत झोंकने को बेताब हैं.

पीवी सिंधू मौजूदा समय में शानदार फॉर्म में हैं. हाल ही में नानजिंग में खेली गई विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची थीं. ये बात अलग है कि फाइनल में उन्हें कैरोलिना मारिन से हार का सामना करना पड़ा. एशियन गेम्स में सिंधू से पदक जीतने की उम्मीदें इसलिए भी प्रबल हैं क्योंकि वह इस सत्र में चार बार फाइनल तक पहुंच चुकी हैं. इस समय महिला सिग्ल्स में पीवी सिंधू दूसरी वरीयता है.

23 वर्षीय इस हैदराबादी बाला ने अब तक 10 खिताब जीते हैं. पीवी सिंधू ने सबसे पहले साल 2011 में इंडोनेशियन इंटरनेशनल खिताब जीता था. वहीं 2013 में उन्होंने मलेशिया मास्टर्स का खिताब अपने नाम किया. 2013, 2014 और 2015 में उन्होंने लगातार तीन बार् मकाऊ ओपन जीतकर सनसनी फैला दी. पीवी सिंधू का कारवां यहीं नहीं रुका और 2016 में एक बार फिर वह मलेशिया मास्टर्स का फाइनल जीतने सफल रहीं. 2016 में ही चाइना ओपेन जीतकर उन्होंने इतिहास रच दिया. 2017 में सैयद मोदी इंटरनेशनल की विजेता बनीं. 2017 में ही पीवी सिंधू ने विश्व की धाकड़ बैडमिंटन खिलाड़ी कैरोलिना मारिन को इंडियन ओपन के फाइनल में पटखनी दी. इसी साल कोरिया ओपन जीतकर पीवी सिंधू ने तहलका मचा दिया.

2016 के रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधू का जन्म हैदराबाद में 5 जुलाई 1995 को हुआ था। 2001 में जब पुलेला गोपीचंद ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप जीते थे तो उसी से प्रेरित होकर पीवी सिंधू ने बैडमिंटन खेलना शुरू किया उस समय उनकी उम्र महज 8 वर्ष थी. पीवी सिंधू को उनकी असाधारण खेल प्रतिभा के चलते साल 2013 में अर्जुन अवार्ड से नवाजा गया. वर्ष 2015 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया, वहीं 2016 में पीवी सिंधू को राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड दिया गया.

Asian Games 2018: एथलीट नीरज चोपड़ा होंगे एशियाई खेलों में भारतीय दल के ध्वजवाहक

Asian Games 2018: एशियाई गेम्स में भारतीय महिला हॉकी टीम के मुकाबले भारतीय समयानुसार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App