नई दिल्ली. इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग में खेले जा रहे 18वें एशियाई खेलों में टेनिस कोर्ट से भारत के लिए शानदार खबर है. भारत के अनुभवी टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना ने अपने साथी दिविज शरण के साथ 18वें एशियाड में पुरुष युगल वर्ग के फाइनल में स्वर्ण पदक जीता लिया. रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की जोड़ी ने फाइनल में कजाकिस्तान की युगल जोड़ी एलेक्जेंडर बुबलिक और डेनिस येवसेव को सीधे सेटों में 6-3, 6-4 से धूल आइए जानते हैं 18वें एशियाई खेलों में रोहन बोपन्ना के साथ पुरुष युगल वर्ग का फाइनल जीतने वाले दिविज शरण के बारे में.

भारत के प्रोफेशनल टेनिस खिलाड़ी 32 वर्षीय दिविज शरण का जन्म दिल्ली में 2 मार्च 1986 को हुआ. उन्होंने 7 वर्ष की उम्र में टेनिस खेलना शुरू कर दिया. टेनिस की युगल स्पर्धाओं में खेलना पसंद करने वाले दिविज को ग्रास और हार्ड कोर्ट पर टेनिस खेलना पसंद  है. रोजर फेडरर, महेश भूपति और लिएंडर पेस उनके पसंदीदा खिलाड़ी हैं. 18वें एशियाई खेलों में युगल वर्ग का फाइनल जीतने वाले दिविज शरण कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपना जलवा बिखेर चुके हैं.

साल 2012 में दिविज शरण को उस समय शोहरत मिली जब उन्होंने इस साल लगातार दो स्पर्धाएं जीतीं. दिविज ने पहले अपने जोड़ीदार युकी भांबरी के साथ बुशान चैलेंजर स्पर्धा का फाइनल जीता था और उसके बाद विष्णु वर्धन के साथ बैंकॉक चैलेंजर का खिताब अपने नाम किया.

साल 2013 में दिविज उस समय काफी मकबूल हुए जब उन्होंने कोलंबिया की राजधानी बगोटा में आयोजित कार्लो ओपेन का खिताब अपने साथी पूर्व राजा के साथ जीता. ये उनका पहला युगल एटीपी टूर खिताब था. एशियन गेम्स 2014 में उन्होंने युकी भांबरी के साथ कांस्य पदक जीता.

दिविज की सफलता आगे भी जारी रही और उन्होंने 2016 में एक बार फिर अपने साथी पूर्व राजा के साथ लॉस कबॉज ओपन का खिताब अपने नाम किया. 2017 में दिविज चेन्नई ओपन के फाइनल में पहुंचे लेकिन हार गए. 2017 में उन्होंने यूरोपियन ओपन का युगल जीतकर इतिहास रच दिया. दिविज शरण ने अब तक 4 एटीपी डबल्स स्पर्धाओं में भाग लिया जिनमें उन्होंने 3 खिताब जीते हैं.

एशियन गेम्स 2018: जानिए नौकायन में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय टीम के बारे में

Asian Games 2018 Day 5, Highlights: 15 साल के शार्दुल विहान को सिल्वर मेडल, भारतीय कबड्डी टीम को कांस्य पदक से करना पड़ा संतोष

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App