नई दिल्लीः अनुभवी हॉकी खिलाड़ी और पूर्व भारतीय कप्तान सरदार सिंह ने प्रोफेशनल हॉकी खेलने से संन्यास ले लिया है. एशियाड में  संतोषजनक प्रदर्शन ना कर पाना इसका एक वजह माना जा रहा है. वहीं कई लोग कह रहे हैं कि उन्होंने राष्ट्रीय कैंप के लिए 25 सदस्यीय भारतीय खिलाड़ियों में नहीं चुने जाने की वजह से सरदार सिंह ने संन्यास लिया. हालांकि सरदार सिंह ने खुद इन बातों को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने लंबे समय से भारत का प्रतिनिधित्व किया और अब वह खेल से इतर परिवार के साथ समय बिताना चाहते हैं.

सरदार सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को अपनी संन्यास की जानकारी देते हुए कहा कि मैंने अब अंतरराष्ट्रीय हॉकी से संन्यास लेने का निर्णय लिया है. मैनें देश के लिए 12 साल तक हॉकी खेला और अब चाहता हूं कि युवा खिलाड़ी मेरी जगह लें. सरदार सिंह ने बताया कि यह निर्णय बहुत मुश्किल था लेकिन उन्होंने अपने परिवार और दोस्तों से सलाह लेने के बाद यह फैसला लिया.

आपको बता दें कि 32 वर्षीय सरदार सिंह ने 2006 से 2018 के बीच 350 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले. उन्होंने 2008 से 2016 के बीच 8 साल तक भारतीय हॉकी टीम की कप्तानी की. सरदार को 2012 में अर्जुन अवॉर्ड और 2015 में पज्ञ्म श्री पुरस्कार मिल चुका है. वह ओलंपिक में भी भारत की दो बार अगुवाई कर चुके हैं. उन्होंने एशियन गेम्स में जाने से पहले भी कहा था कि उनका लक्ष्य 2020 टोक्यो ओलंपिक खेलना है. लेकिन एशियाई खेलों में संतोषजनक प्रदर्शन न कर पाने के कारण उन्हें जल्द ही संन्यास लेना पड़ा.

India vs Malaysia Men’s Hockey Semi Final Highlights: पेनॉल्टी शूटआउट में मलेशिया ने भारत को 7-6 से हराया, गोल्ड का सपना टूटा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App