मुंबई. शशांक मनोहर के बीसीसीआई अध्यक्ष बनते ही बोर्ड के लिए एक बुरी ख़बर आ रही है. खबर है कि बीसीसीआई के टूर्नामेंट आईपीएल की सबसे बड़ी स्पॉन्सर पेप्सी ने स्पॉट फिक्सिंग स्कैंडल की वजह से अपनी स्पॉन्सरशिप वापस लेने का फैसला कर लिया है.
 
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपि खबर के मुताबिक पेप्सी ने बीसीसीआई को खत भेज कर नाता तोड़ने की बात बता दी है. पेप्सी ने आईपीएल के लिए 2013 से 2017 तक की स्पॉन्सरशिप डील की थी जिसके मुताबिक उसे बीसीसीआई को 71.77 मिलियन डॉलर (396 करोड़ रुपये) देने हैं. वैसे पेप्सी के लिए पीछे हटना आसान नहीं होगा. स्पॉन्सरशिप छोड़ने के बदले उसे बीसीसीआई को भारी पेनल्टी भी चुकानी पड़ सकती है. 
 
साफ-सुथरी छवि के शशांक मनोहर ने बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद ये कहा था कि वो दो महीनों के अंदर बीसीसीआई की छवि को ठीक करेंगे और बोर्ड में फैली गंदगी साफ करेंगे. ऐसे समय में पेप्सी का यह फैसला चौंकाऊ है.