रोहतक: रियो ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली महिला पहलवान साक्षी मलिक ने यह दावा किया था कि हरियाणा सरकार ने उन्हें अभी तक प्रोत्साहन राशि नहीं दी है. जिसके बाद हरियाणा सरकार के खेल मंत्री अनिल विज ने इसे गलत करार दिया है.
 
साक्षी मलिक ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा था ‘मैडल का वादा मैंने पूरा किया, हरियाणा सरकार अपना वादा कब पूरा करेगी ?’ दरअसल हरियाणा सरकार की ओर से रियो खेलों के दौरान कांस्य पदक जीतने के बाद साक्षी को प्रोत्साहन राशि देने का ऐलान किया गया था. लेकिन साक्षी का आरोप है कि उन्हें अब तक राशि नहीं मिली हैं.
 
आरोपों का खंडन
उधर इन आरोपों का हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज ने खंडन किया है. विज का कहना है कि साक्षी को पदक जीतने के बाद 2.50 करोड़ रुपये का चेक दे दिया गया था. विज का कहना है कि खुद मुख्यमंत्री ने उन्हें ये चेक प्रदान किया था.
 
 
नौकरी की मांग
इसके अलावा विज ने कहा कि साक्षी ने एमडीयू यूनिवर्सिटी में नौकरी की मांग की थी. हालांकि वहां पर इसके मुताबिक पोस्ट खाली नहीं थी. इसके बाद पोस्ट क्रिएट करने की सभी मंजूरियां देकर इसके बारे में एमडीयू यूनिवर्सिटी को लिख दिया गया था. वहां इसके सर्विस रूल तैयार करके नौकरी दे दी जाएगी.
 
अब तारीफ
इन सबके बाद साक्षी मलिक ने फिर एक ट्वीट किया और हरियाणा सरकार की तारीफ की. लेकिन उन्होंने ये भी लिखा कि अभी भी कुछ वादे पूरे नहीं किए गए हैं.
पहली महिला पहलवान
बता दें कि साक्षी मलिक ने पिछले साल 58 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में भारत की ओर से रियो ओलंपिक खेलों में पदक जीतने वाली पहली महिला पहलवान बनकर इतिहास कायम किया था. जिसके बाद हरियाणा सरकार ने कम से कम 3.5 करोड़ रूपये के प्रोत्साहन और नकद पुरस्कारों की घोषणा की थी. 
 
वहीं ओलिंपिक से पहले हरियाणा सरकार ने स्वर्ण पदक जीतने वाले अपने राज्य के खिलाड़ियों के लिए 6 करोड़, रजत पदक के लिए 4 करोड़ और कांस्य पदक के लिए 2.5 करोड़ रुपये की घोषणा की थी.