कोलकाता: विजय हजारे ट्रॉफी में खेले दूसरे वनडे में धोनी के धमाकेदार शतक की बदौलत झारखंड ने छत्तीसगढ़ को 78 रन से हराया. इसके साथ ही टूर्नामेंट में झारखंड ने अपनी पहली जीत भी दर्ज की.
 
 
अपनी कप्तानी में कर्नाटक के खिलाफ झारखंड को पहला मैच जिता पाने में नाकाम रहे धोनी के लिए ईडन गार्डन्स के मैदान पर छत्तीसगढ़ के खिलाफ मुकाबले में भी जीत की राह आसान नहीं थी. छत्तीसगढ़ के कप्तान मो. कैफ ने टॉस जीतकर झारखंड को पहले बल्लेबाजी के लिए उतारा. लेकिन झारखंड की शुरुआत अच्छी नहीं रही. टीम के टॉप 6 बल्लेबाज सिर्फ 57 रन पर आउट हो गए थे. 
 
संकट से निकाला
इसके बाद धोनी ने कप्तानी पारी खेलते हुए ना सिर्फ शतक जड़कर अपनी टीम को संकट से उबारा बल्कि छतीसगढ़ के सामने एक ऐसा टोटल खड़ा कर दिया जिससे पार पाना उनके लिए मुश्किल हो गया. धोनी ने 107 गेंदों पर 120.56 की स्ट्राइक रेट के साथ 129 रन बनाए.
 
 
साझेदारी
धोनी की इस पारी में 10 चौके और 6 छक्के शामिल रहे. अपनी शतकीय पारी के दौरान धोनी को दूसरे छोर से शहबाज नदीम का बेहतरीन साथ मिला. जिन्होंने 53 रन की बेशकीमती पारी खेली. 7वें विकेट के लिए धोनी और शहबाज के बीच 152 रन की साझेदारी हुई.
 
ऑल आउट
धोनी और शहबाज के बीच की साझेदारी की बदौलत झारखंड की टीम 243 रन के स्कोर तक पहुंचने में कामयाब रही. हालांकि जीत के लिए 244 रन का टारगेट चेज करने उतरी छत्तीसगढ़ की टीम सिर्फ 165 रन बनाकर ऑलआउट हो गई.