इंदौर.  इंदौर टेस्ट में कप्तान विराट कोहली के दोहरे शतक (211) और आंजिक्य रहाणे के (188) रनों के दम पर भारत 557 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर पाया है. लेकिर अगर बात करें रहाणे की पारी को तो यह अपने आप में बहुत खास है. उनकी इस पारी के पीछे एक फोन कॉल भी वजह है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

पहले दिन जब पारी की भारत ने पारी की शुरुआत की तो उसके तीन विकेट 100 रन पर गिर चुके थे. जिस तरह से कीवी गेंदबाज बॉलिंग कर रहे थे उससे लग रहा था कि भारत बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर पाएगा.
 

वहीं रहाणे और विराट जब बल्लेबाजी करने आए तो तेज गेंदबाज बाउंसर से इनका कड़ी परीक्षा लेनी शुरू कर दी. जिसमें आंजिक्य रहाणे पूरी तरह फंसते नजर आए. एक बार तो सैटनर की एक गेंद रहाणे के सिर के पीछे लग गई. 
 
गेंद इतनी तेज थी कि पूरे स्टेडियम में सन्नाटा छा गया. वहीं मैच देखने आई उनकी पत्नी भी थोड़ी देर के लिए डर गई. रहाणे बाउंसर गेदों में इससे पहले दो बार आउट होने से भी बचे थे. दो जीवनदान मिलने के बाद रहाणे ने पहले दिन किसी तरह 74 रन बनाए. 
 
फिर आया एक फोन
पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद आजिंक्य रहाणे जहां दूसरे दिन के खेल के बारे में सोच ही रहे थे कि तभी एक फोन आया. वह फोन पूर्व बल्लेबाज प्रवीण आमरे का था.

रहाणे ने उनसे कहा पिच में दोहरी उछाल है. रहाणे की मुश्किल आमरे समझ गए थे. पूर्व क्रिकेटर ने गुरु मंत्र देते हुए कहा तुम सिर्फ क्रीज पर खड़े रहो. रन तो अपने आप बनते जाएंगे.

आमरे ने मीडिया से बताया कि उनकी(रहाणे) मेहनत काम आई. कोलकाता में वह पुल करने में चक्कर में आउट हो गए थे. इसके बाद रहाणे ने फैसला किया होगा कि वह पुल शॉट नहीं खेलेंगे. उन्होंने इस बार बेहतरीन प्रदर्शन किया. वह अपनी मुश्किलों का रास्ता खुद ही ढूढ़ लेते हैं.