मुबंई. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने शनिवार को लोढ़ा कमेटी की कई सिफारिशों को मान लिया है. लेकिन कई अहम सुझावों को खारिज भी कर दिया है. मुबंई में हुई स्पेशल जनरल मीटिंग में आम सहमति से कई सिफारिशों को मंजूर कर लिया गया. इसमें सबसे बड़ा फैसला अपेक्स काउंसिल बनाने का लिया गया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने कहा कि वे सिफारिशें अभी मंजूर नहीं की गई हैं जिन्हें चुनौती दी जा सकती है या जिन्हें अपनाने में फिलहाल दिक्कतें आ रही हों. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को डिटेल में रिपोर्ट भेजी जाएगी जिसमें सदस्यों के जरिए मानी गई सिफारिशों और ना मानी गई सिफारिशों को लेकर जवाब दिया जाएगा.
 
इन पर बनी सहमति
1. थोड़े बदलाव करने के बाद अपेक्स काउंसिल का गठन होगा.
2. कंट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल यानि कैग के एक प्रतिनिधि को अपेक्स काउंसिल और आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल का सदस्य बनाया जाएगा.
3. विकलांगों और महिलाओं के लिए स्पेशल कमेटी बनाई जाएगी.
4. आईसीसी के दिशानिर्देशों के तहत एसोसिएट मेंबर्स को भी वोटिंग का अधिकार मिलेगा.
5. बोर्ड के राष्ट्रीय कैलेंडर और आईपीएल के बीच 15 दिन का गैप होगा.
6. बीसीसीआई की एसोसिएट सदस्यता में पुडुचेरी को जगह मिलेगी.
7. एजेंट के पंजीकरण से जुड़े नए नियमों को भी मंजूरी मिली है.
8. प्लेयर्स एसोसिएशन का गठन किया जाएगा.
9. खिलाड़ी और टीम अधिकारियों के लिए एंटी डोपिंग कोड, एंटी रेसिज्म कोड, कोड ऑफ कंडक्ट, एंटी करप्शन कोड और ऑपरेशनल नियमों को मंजूरी मिली.
 
 
इन पर नहीं बनी सहमति
1. वन पर्सन, वन पोस्ट.
2. वन स्टेट, वन वोट.
3. 70 साल से ज्यादा उम्र वाले पदाधिकारियों की छुट्टी.
4. चयन पैनल में तीन सदस्य.
 
बता दें कि बीसीसीआई में सुधार लाने के इरादे से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद लोढ़ा कमेटी का गठन हुआ था. इस कमेटी ने जनवरी में अपनी सिफारिशें दी थी. जिसे सुप्रीम कोर्ट ने मंजूर कर लिया था.