नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की पिछले वित्त वर्ष में कुल बचत 111.83 करोड़ रुपये रही है. बोर्ड के कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी ने इस बात की जानकारी दी. हालांकि यह उससे पिछले साल की तुलना में 55 करोड़ रुपये कम है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बीसीसीआई कोषाध्यक्ष ने 2015-16 की अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि इस साल खर्चों के बाद कुल बचत 111.83 करोड़ रुपये रही जबकि इससे पिछले साल यह 166.87 करोड़ रूपये थी. बचत में कमी का मुख्य कारण संघों को अतिरिक्त राशि का वितरण, खिलाड़ियों को अतिरिक्त भुगतान और चैंपियन्स लीग टी20 टूर्नामेंट का आयोजन नहीं होना रहा.
 
चौधरी ने बताया कि वर्तमान वित्त वर्ष 2016-17 में बजट अधिशेष 509.13 करोड़ रुपये हो सकता है. इसके साथ ही सकल राजस्व आय में बढ़ोतरी के कारण खिलाड़ियों को भुगतान की जाने वाला सकल राजस्व हिस्से का प्रावधान 10.47 करोड़ रुपये से बढ़कर 56.35 करोड़ रुपये हो गया.
 
इसके अलावा आईपीएल 2015 से हुई सकल मीडिया अधिकार और फ्रेंचाइजी से प्राप्तियां 1069.75 करोड़ रुपये रही जबकि पिछले साल यह 999.6 करोड़ रुपये थी.