कानपुर. कानपुर में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच का दूसरा दिन टी सेशन के बाद बारिश की भेंट चढ़ गया. इससे पहले विकेट की तलाश में झूझते नजर आए भारतीय गेंदबाजों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही थी. मैच के दूसरे दिन ऐसा मौका भी आया जब न्यूजीलैंड के बल्लेबाज का कैच लेने के बाद भी उसे नॉटआउट करार दिया गया. पारी के 37वें ओवर में टीम को एक और विकेट लेने का शानदार मौका मिला था. जिस पर जमकर अपील भी हुई. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मैदान पर उस समय हालात गंभीर हो गए जब कीवी बल्लेबाज टॉम लैथम के बल्ले से गेंद लगकर फील्डर के हाथ में चली गई. खिलाड़ियों की दमदार अपील के बाद भी अंपायर ने फील्डर की गलती के कारण उसे नॉटआउट दे दिया. दरअसल फील्ड अंपायर को यह डाउट था कि ग्राउंड को छूकर या बल्लेबाज के पैर को छूती हुई गेंद फील्डर लोकश राहुल के पास गई है. लेकिन इसके बाद भी खिलाड़ी अपील करते रहे. मामला जब थर्ड अंपायर के पास गया तो रिप्ले देखकर बल्लेबाज को नॉटआउट दिया गया. 
 
 
रिप्ले में दिखा कि गेंद राहुल के हाथों से होती हुई हेलमेट के ग्रिल से लग गई. आईसीसी के नियमों के मुताबिक कैच लेते वक्त गेंद अगर हाथ में लगकर किसी बाहरी चीज जैसे हेल्मट, पैड, एल्बो गार्ड आदि से लग जाती है तो कैच को वैध नहीं माना जाता है. इसी वजह से लैथम को नॉटआउट दिया गया.