कानपुर. 22 सितंबर से कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में शुरू हो रहे भारत और न्यूजीलैंड के टेस्ट मैच को लेकर सभी की निगाहे हैं. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के लिए इसके लिए खास तैयारी कर रहे हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
लेकिन इस टेस्ट मैच के पहले न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया के बल्लेबाजों की सबसे कमजोर नब्ज पकड़ी है जिसके आगे टीम ताश पत्तों की तरह ढह सकती है.  दरअसल न्यूजीलैंड ने अपनी टीम में दो बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों को रखा है.
 
अगर हम आंकड़ों पर ध्यान दें तो पिछले कुछ सालों से बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों ने टीम इंडिया के गेंदबाजों को सबसे ज्यादा परेशान किया है. आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन ने 14 टेस्ट मैचों में 50 विकेट लिए हैं. वहीं आस्ट्रेलिया के ही मिशेल स्टार्क जो कि इस समय सभी बल्लेबाजों के  लिए सरदर्द बने हुए हैं उन्होंने 5 टेस्ट मैचों में भारत के 13 बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया है.
 
पाकिस्तान के मोहम्मद आमिर ने टी-20 में भारत के खिलाफ चार विकेट लिए थे.  वहीं एक और तेज गेंदबाज वहाब रियाज का प्रदर्शन भी भारत के खिलाफ काफी अच्छा रहा है.  इन आंकड़ों को देखते हुए न्यूजीलैंड का बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों को खिलाने का फैसला कारगर साबित हो सकता है.
 
कौन हैं न्यूजीलैंड के बड़े हथियार
न्यूजीलैंड के इन बाएं हाथ के गेंदबाजों में ट्रेंट बोल्ट और नील वैगिनर शामिल है. इन दोनों का भारत के खिलाफ रिकॉर्ड किसी से कम नहीं है. ट्रेंट बोल्ट ने 4 टेस्ट मैचों में  भारत के 15 विकेट चटकाए हैं तो नील वैंगिनर ने 2 टेस्ट में 11 विकेट गिराए हैं.
 
क्या कहना है टीम इंडिया का
टीम इंडिया के बल्लेबाज आजिंक्य रहाणे ने कहा है कि टीम इन दोनों गेंदबाजों के वीडियो देख रही है और हमने भी इनके खिलाफ काफी तैयारी की है.
 
कमी को दूर करने के लिए बुलाए गए बाएं हाथ के तेज गेंदबाज
टीम इंडिया की इस कमी को दूर करने के लिए राजस्थान के तेज गेंदबाज अनिकेत चौधरी और दिल्ली के प्रदीप सांगवान को खास तौर पर कानपुर बुलाया गया है.