जमैका. ओलंपिक के बादशाह उसैन बोल्ट अपने स्वदेश जमैका लौटने के बाद ‘विलियम कनिब मेमोरियल’ स्कूल को  20 मिलियन डॉलर डोनेट किया है. ओलंपिक में गोल्ड जितने के बाद वापस अपने देश लौटकर उसैन बोल्ड ने साबित कर दिया कि वे ओलंपिक के साथ-साथ दिल के भी बादशाह हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक ये वही स्कूल है जहां बचपन में उसैन ने अपनी पढ़ाई पूरी की है. साथ ही अगले साल से उसैन हर महीने स्कूल आएंगे ताकि वहां खेल में रुची लेने वाले बच्चों की मदद कर सकें. 
 
जमैका जैसे छोटे देश से एक ऐसा खिलाड़ी जिसका नाम उसके देश के नाम से भी ज्यादा मशहूर है. दुनिया में कहीं भी फर्राटा दौड़ की बात होती है, तो उसैन बोल्ट का नाम सबसे पहले सामने आता है. 
 
बता दें कि जमैका के एथलीट बोल्ट ने ओलंपिक खेलों में कुल नौ स्वर्ण पदक जीते हैं. फेल्प्स की तरह बोल्ट भी अपने देश के लिए सोने के पदकों का ढेर लगाने वाले खिलाड़ी रहे हैं. उसैन बोल्ट को भी कुदरत के करिश्मे के तौर पर ही लिया जाता है. इसमें कोई संदेह नहीं कि वो दुनिया में एक अनोखे धावक हैं, जिनका ट्रैक पर उतरना ही जीत की गांरटी होता है. इसलिए दुनिया उन्हें कहते हैं जादूई चीता.