नई दिल्ली. मौसम में ठंड बढ़ने लगी है. और ठंड के साथ सब्जियों के दाम भी आसमान छूने लगे हैं. लेकिन आमतौर पर ऐसा नहीं होता कि सर्दियों में सब्जियों के दाम इतना चढ़ जाएं. लेकिन इस बार सब्जी मंडी का महौल एक दम विपरीत है. दरअसल सर्दियों में सब्जियों की वैरायटी भी ज्यादा होती है और रेट भी वाजिब रहते हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है. दिल्ली से लेकर लखनऊ, मुंबई, भोपाल तक प्याज और टमाटर के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. और इस बार तो अंडा भी गजब तेवर दिखा रहा है. पिछले तीन महीने में अंडे के दाम 60 फीसदी तक बढ़े हैं. खरीदार परेशान हैं. बेचने वाले महंगाई के चलते मंदी का रोना रो रहे हैं और बाजार के जानकार भी चिंतित हैं कि मंडियों की महंगाई कहीं दूर तक असर ना दिखा दे.

प्याज और टमाटर के दाम साल में अब इतनी बार बढ़ते हैं कि लोगों को इनका प्राइस प्रहार झेलने की आदत सी हो गई है. केवल सब्जियों के दाम ही नहीं इस बार तो अंडे के दामों ने चौंका दिया है. एक महीने पहले तक 4-5 रुपये का एक अंडा मिल जाता था, लेकिन अब कहीं भी अंडा 6 रुपये से कम नहीं मिल रहा है. एक दर्जन अंडे की कीमत 70 से 80 रुपये के बीच है. दुकानदारों का कहना है कि अंडे की सप्लाई ही कम हो गई है. जानकारों का मानना है कि अंडे के उत्पादन पर तो मौसम की मार नहीं पड़ती, फिर सप्लाई कम क्यों हुई..?

इन दिनों जिस सब्जी ने मंडी से लेकर रसोई तक कोहराम मचाया है, वो है टमाटर. आमतौर पर दीवाली के बाद टमाटर की आवक बढ़ जाती थी और दाम घट जाते थे, लेकिन इस बार टमाटर भी उलटी चाल चल रहा है. मंडियों में आवक कम होने से टमाटर अब सेब से भी महंगा बिक रहा है. सब्जी मंडी में टमाटर के थोक कारोबारियों का कहना है कि कर्नाटक और मध्यप्रदेश में बेमौसम बारिश के चलते फसल बर्बाद हो गई है. उत्तर भारत में सबसे ज्यादा टमाटर इन्हीं दो राज्यों से आता है, लिहाजा सप्लाई कम होने से दाम बढ़ गए हैं. टमाटर के दाम अब तभी कम होंगे, जब नई फसल तैयार होगी और इसमें अभी 15-20 दिन का वक्त लग सकता है.

टमाटर के बाद प्याज भी लोगों को रुला रहा है. देश में प्याज की कहानी बड़ी उलझी हुई है. दो महीने पहले तक एमपी, राजस्थान और महाराष्ट्र से खबर आ रही थी कि किसानों ने अपना प्याज सड़क पर फेंक दिया है, क्योंकि उन्हें प्याज बेचने पर जो कीमत मिल रही थी, उससे मंडी जाने का भाड़ा भी वसूल नहीं होता. सरकार ने किसानों को राहत देने के लिए जो प्याज खरीदा, वो प्याज भी सड़ जाने के चलते फेंकना पड़ा. अब हाल ये है कि मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में ही लोगों को 50 रुपये किलो प्याज खरीदना पड़ रहा है. दिल्ली से लेकर पटना तक प्याज के दाम फिर से लोगों के आंसू निकाल रहे हैं.

जेल में घीया उगा रहा है रेपिस्ट राम रहीम, रोज मिलती है 20 रूपये दिहाड़ी

जेल में भी क्यों कायम है डेरे की क्वीन हनीप्रीत का जलवा!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App