नई दिल्ली: मुंबई के डोंगरी में पैदा हुआ दाऊद इब्राहिम 1993 मुंबई बम धमाकों का आरोपी भी है. दाऊद इब्राहिम साल 1986 में मुंबई से दुबई भाग गया. मोस्ट वांटेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से मिलने वाले उन दो लोगों ने अपने अनुभव की कहानी शेयर की है, जो दाऊद से कई बार मिल चुके हैं. इनका मानना है कि दाऊद इब्राहिम फिलहाल डर और इंसिक्योरिटी से भरा हुआ है. उनमें से एक हैं वरिष्ठ पत्रकार शीला भट्ट और दूसरे हैं दाऊद पर किताब लिखने वाले स्वतंत्र लेखक एस हुसैन जैदी. शीला भट्ट अपने पेशे के तहत दाऊद से उसका इंटरव्यू लेने के लिए कई बार मिलीं, वो इंटरव्यू कई मैग्जीन्स और अखबारों में प्रकाशित भी हुए है. शीला ने इंडिया न्यूज से बात करते हुए दाऊद से अपने उन्हीं अनुभवों को साझा किया है. लेखक एस हुसैन जैदी ने भी दाऊद से बातचीत के दौरान हुए अपने व्यक्तिगत अनुभवों की कहानी सुनाई है, चैनल उनके व्यक्तिगत अनुभवों की कहानी की पुष्टि नहीं करता.
 
दाऊद से मिलने वाले पत्रकारों की माने तो मुंबई के डोंगरी में पैदा हुआ दाऊद इब्राहिम दाऊद के पिता पुलिस में थे. दाऊद ने छोटी उम्र में ही अपना गैंग बना लिया था. दाऊद से तकरीबन 6-7 बार मिल चुकी हैं शीला भट्ट. जबकि एस हुसैन जैदी ने दाऊद पर किताब भी लिखी है  और कई बार बात भी कर चुके हैं. भारत के पास दाऊद के कराची में होने के पुख्ता सबूत भी है.
 
कौन हैं शीला भट्ट?
शीला भट्ट अंडरवर्ल्ड को कवर करने वाली देश की चुनिंदा पत्रकारों में से एक हैं. प्रिंट, टेलीविजन और इंटरनेट पत्रकारिता में शीला पिछले तीन दशकों से सक्रिय हैं. शीला रेडिफ डॉट कॉम में एडिटोरियल डायरेक्टर के पद पर थीं इंडियन एक्सप्रेस में बतौर नेशनल एडिटर काम किया. इंडिया टुडे के गुजराती संस्करण को लांच करने में अहम योगदान रहा है. गुजराती साप्ताहिक मैग्जीन अभियान की शुरूआत की थीं. 
 
वीडियो में देखें पूरा शो-
 
 
 
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर