नई दिल्ली: राम रहीम और उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत के रिश्ते का राज़ जितना गहरा है. उतना ही रहस्यों से भरा है. बलात्कारी राम रहीम के जेल जाने के बाद से दोनों के रिश्तों पर हर रोज़ नए खुलासे हो रहे हैं. इश्क, विश्क, प्यार, व्यार कहे जाने वाले इस रिश्ते में अब एक नया खुलासा हुआ. खुलासा ये  कि दोनों की प्रेम कहानी साजिशों से भरी थी.
 
भला कोई बाप क्यों चाहेगा कि उसकी बेटी की गोद सूनी, उसके घर में किलकारियां ना गूंजे लेकिन राम रहीम ऐसा ही चाहता था. पाखंडी बाबा चाहता था कि उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत मां ना बने. ये सनसनीखेज़ खुलासा हनीप्रीत के पूर्व पति विश्वास गुप्ता ने किया है.
 
इंडिया न्यूज़ के ख़ास बातचीत में विश्वास गुप्ता ने कहा कि शादी के दो या तीन दिन के बाद हनीप्रीत और विश्वास गुप्ता राम रहीम से मिले. इसी मुलाकात में राम रहीम ने संतान की चर्चा छेड़ दी. उसने कहा कि आप लोग अक्सर हमारे साथ बाहर की यात्रा करते हैं. अगर आपके बच्चा हुआ तो आप लोग उसकी देखरेख के चलते हमारी सेवा नहीं कर पाओगे, इसलिए बच्चा पैदा ना करो.
 
हनीप्रीत और उसके पति को बच्चा ना पैदा करने की सीख और शपथ दिलाने के बाद राम रहीम ने एक और जाल फेंका. राम रहीम के कहे मुताबिक हनीप्रीत और उसके पति विश्वास गुप्ता हफ्ते में दो दिन सिरसा डेरे में आने लगे. बाबा विश्वास गुप्ता को लिविंग रूम में बिठा देता था, जबकि हनीप्रीत को गुफा के बेडरूम में बुला लेता था.
 
राम रहीम कहता था कि बेटी अकेले में ससुराल का हर सुख-दुख साझा कर सकेगी, इसलिए अकेले में मुझसे मिलेगी. गुफा के अंदर राम रहीम और हनीप्रीत की हर मुलाकात एक से डेढ़ घंटे तक होती थी. इस दौरान बाबा के चेले और सेवादार विश्वास गुप्ता से बातें करते थे.
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर