नई दिल्ली: बलात्कारी राम रहीम के जेल जाने के बाद उसके सोने के सिंहासन और सोने के पलंग की बातें सामने आईं है. अय्याश राम रहीम की गुफा में सोने का सिंहासन रखा है. इसी सिंहासन पर बैठकर राम रहीम खुद को बादशाह समझता था. इसी सोने के सिंहासन पर बैठकर राम रहीम खुद को भगवान समझता था और भोले-भाले भक्तों को बेवकूफ बनाता था. राम की पाप की लंका का भंडाफोड़ हुआ तो सोने के पलंग का राज़ भी सामने आ गया. 8 अगस्त को डेरे के सर्च ऑपरेशन के दौरान राम रहीम की गुफा में शाही पलंग भी दिखी. बताया जाता है कि राम रहीम के पलंग की चादरें विदेश से आती थीं. इसी पलंग पर बैठकर राम रहीम अपनी रात रंगीन करता था. सामने लगे टीवी पर ब्लू फिल्म देखता था.
 
सबसे करीबी हनीप्रीत बलात्कारी बाबा के लिए साध्वियों और गर्ल्स हॉस्टल की लड़कियों को फंसाती थी और फिर उसे राम रहीम के सामने परोस दिया जाता था. राम रहीम की अय्याशियां किसी से छिपी नहीं हैं. उसे करीब से जानने वाले बताते हैं कि वो जिस कपड़े को एक बार पहनता था. उसे दोबारा नहीं पहनता था. बताया जाता है कि उसके कपड़े विदेश से भी आते थे. मुमकिन है कि इस शेरवानी का कपड़ा भी विदेशी हो और उस पर सोने की तार की कढ़ाई हो यानी राम रहीम की नौलखा शेरवानी. डेरे के सर्च ऑररेशन के दौरान राम रहीम की गुफा में 29 आलमारियां मिलीं. जिनमें राम रहीम के चमकीले और तड़क-भड़क वाले कपड़े किसी शोरूम की तरह सजा कर रखे गए थे.
 
राम रहीम के रैक में शेरवानी और कुर्ते जैसे करीब 3 हज़ार कपड़े मिले हैं. राम रहीम की गुफा की तलाशी में सैकड़ों टोपियां भी मिली हैं, जिन्हें अपने सत्संगों या फिर दूसरे मौकों पर स्वयंभू संत राम रहीम पहना करता था. सर्च ऑपरेशन की टीम ने जब उसके शू रैक में 1500 जोड़ी जूतियां देकीं तो हैरान रह गई. कहा जाता है कि राम रहीम इतना बड़ा अय्याश था कि वो हीरे जड़ी जूतियां पहनता था. उसके पास इतने जूते हैं कि एक ट्रक में जगह कम पड़ जाए. डेरा के सर्च ऑपरेशन के दौरान राम रहीम की गुफा की तीसरी मंजिल पर एक सुरंग मिली है. इस सुरंग को मिट्टी डालकर बंद किया गया है. जांच टीम इसकी तहकीकात कर रही है. राम रहीम ने 800 एकड़ के डेरे के अंदर कैसे अपना अलग साम्राज्य खड़ा कर रखा था. डेरा के अलग-अलग कमरों से बड़ी मात्रा में प्लास्टिक की करेंसी बरामद हुई है. ये करेंसी खुद राम रहीम जारी करता था.
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App