नई दिल्ली. भारत के कई राज्यों में भारी बारिश की वजह से जहां शहर तालाब बन गए हैं तो वहीं सड़कें समुद्र का रूप ले चुकी हैं. भगवान का मंदिर हो या फिर लोगों के आशियाने, बारिश की तबाही से कोई नहीं बचा है. बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में बाढ़ ने काल का रूप ले लिया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
डूब चुके हैं दर्जनों मंदिर
 
ऐसी भयानक स्थिति से निपटने के लिए लोग भगवान का सहारा लेते हैं, लेकिन इस सैलाब के कहर से भगवान भी अछूते नहीं रहे. मध्य प्रदेश में बारिश की वजह से मंदिर के मंदिर पानी में डूब गए. एमपी के जबलपुर में एक या दो नहीं करीब दर्जन भर मंदिर पानी में डूब चुके हैं. हालांकि लोग अभी भी पूजा अर्चना कर रहे हैं, लेकिन भारी बारिश की वजह से मंदिर डूबते ही जा रहे हैं.
 
बीमार व्यक्तियों को सबसे ज्यादा समस्या
 
बाढ़ की वजह से अब तक कई लोगों को अपनी जिंदगी को अलविदा कहना पड़ा है. बाढ़ के कहर के कारण बीमार व्यक्तियों को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है. घर के सामने 4-4 फीट पानी भरा होने के कारण बीमार व्यक्ति अपना इलाज कराने में असमर्थ है.  बिहार के भागलपुर में एक बीमार व्यक्ति को इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के लिए लोगों ने खाट को ही एंबुलेंस बना दिया.
 
इंडिया न्यूज़ के कार्यक्रम त्राहिमाम सैलाब में देखिए बाढ़ में जिंदगी बचाने के लिए लोगों का दंगल.