नई दिल्ली. इस हफ्ते में आज शहर-शहर लहर के कहर की बात करेंगे. देश के 12 राज्यों में सैलाब के सितम से 500 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. कई जगह सड़कें नदियों में तब्दील हो गई. शहर, कस्बे, गांव पानी में डूबे हुए हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
लोगों के पास ना सिर ढकने को छत है ना ही खाने के लिए राशन.ऐसे हालातों में जिंदगी से जंग लड़ रहा है आधा हिंदुस्तान. तो आईये देखते हैं. जलासुर का प्रकोप इंडिया न्यूज शो इस हप्ते में.
 
देशभर में 50 लाख से ज्यादा लोग पानी का प्रहार झेल रहे हैं..सबसे बुरे हालात उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, राजस्थान और उत्तराखंड के हैं..सैलाब के इस सितम के बीच एक बार फिर से सेना देवदूत बनकर आई है..जगह जगह सेना, NDRF और रेस्क्यू टीमें परेशान लोगों को मदद पहुंचा रही हैं..जिंदगी से जद्दोजहद कर रहे लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया जा रहा है. 
 
कई शहरों में बाढ का पानी तो उतर रहा है..लेकिन बाढ के पानी के साथ बहकर आए मगरमच्छ, सांप, बिच्छू जैसे जानवर लोगों के लिए मुसीबत बन गये हैं.. उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर से कुछ ऐसी ही तस्वीरें सामने आई हैं.तो वहीं महामारी का खतरा भी मंडराने लगा है.
 
गंगा का ये रौद्र रूप पहले नहीं देखा गया. गंगा उफान पर है और जो भी सामने आ रहा है उसे बहाकर ले जा रही है.इलाहाबाद और वाराणसी में गंगा का ज्यादा कहर बरपा है. तो बाढ के इन हालात में राजनीति भी खूब हो रही है. इस हफ्ते में आज के लिए बस इतना ही. अगले हफ्ते आपसे इसी समय एक और मुद्दे के साथ मुलाकात होगी.