नई दिल्ली. माता वैष्णो देवी के दरबार में पहुंचने के लिए पहले पहाड़ की खड़ी ऊंचाई पार करनी पड़ती थी लेकिन अब वो फासला सिर्फ सात कदमों में तय हो जाएगा. यहां सात कदम से हमारा मतलब है सात किलोमीटर लंबी वो सड़क जो आपको कटरा से सीधे अर्धकुंवारी पहुंचा देगी. माता रानी के आशीर्वाद से बहुत जल्द ये नया ट्रैक शुरू होने जा रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अब तक आपको माता के भवन तक पहुंचने के लिए कटरा से बाणगंगा होते हुए अर्धकुंआरी जाना पड़ता था. जिसके लिए करीब 6 किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई वाली सड़क से जूझना पड़ता था पर अब इस मुश्किल चढ़ाई से छुटकारा मिल गया है. हालांकि सुरक्षा और सहूलियत के लिहाज से पुराना ट्रैक भी काफी बेहतर माना जाता है पर नए ट्रैक का कोई जवाब नहीं. ये न सिर्फ चढ़ाई के लिहाज से बेहद सुगम है बल्कि इस रास्ते पर यात्रियों की सुख-सुविधा का भी पूरा ख्याल रखा गया है.
 
मां के दरबार तक जाने के लिए बना नया ट्रैक कैसा है और उसे किन किन सुविधाओं से लैस किया गया है. कटरा बस स्टैंड से करीब एक किलोमीटर पश्चिम में ये कटरा-रियासी रोड पर बना बालिनी ब्रिज है . यहीं से नया ट्रैक शुरू होता है जो ताराकोट गांव होते हुए अर्द्धकुंआरी पहुंचता है.
 
करीब 7 किलोमीटर लंबा ये रास्ता न सिर्फ चढ़ाई के लिहाज से बेहतर है बल्कि इस पर श्रद्धालुओं की जरूरतों का भी पूरा ख्याल रखा गया है. करीब 7 किलोमीटर लंबे इस नए रास्ते पर श्रद्धालुओं के लिए भोजन-पानी से लेकर उनके रिफ्रेशमेंट तक का बेहतर बंदोबस्त किया गया है.
 
वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो