उफा. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ वार्ता की. रूस पहुंचने के बाद अपनी दूसरी द्विपक्षीय वार्ता में मोदी ने शी के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता की. विदेश सचिव एस. जयशंकर से जब इंडिया न्यूज के एडिटर-इन-चीफ दीपक चौरसिया ने पूछा कि क्या पीएम मोदी ने लखवी के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र में भारत के कदम को चीन द्वारा ब्लाक किए जाने का मुद्दा उठाया तो उन्होंने हां में जवाब दिया.

इस बैठक के दौरान मोदी ने चीन द्वारा बनाए जा रहे 46 अरब डॉलर लागत वाले आर्थिक गलियारे पर भी चिंता जताई. यह गलियारा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरता है. इसके अलावा विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, ‘एक साल के भीतर हमारी पांचवीं बैठक भारत-चीन के बीच गहरे संबंधों को दर्शाती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति शी से बातचीत की.’

इससे पहले मोदी उफा पहुंचने के बाद रूस के राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन के साथ पहली द्विपक्षीय वार्ता की. यहां ही ब्रिक्स तथा संघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन हो रहा है. भारत पूर्णकालिक तौर पर संघाई सहयोग संगठन का सदस्य बनने को तैयार है, जिसकी अध्यक्षता चीन करता है.  

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App