नई दिल्ली: शातिर और पेशेवर आरोपी से सच उगलवाने के लिए पुलिस कई बार थर्ड डिग्री टॉर्चर का इस्तेमाल करती है, आपने थर्ड डिग्री टॉर्चर के बारे में सुना भी होगा लेकिन कोई सूदखोर बंद कमरे को टॉर्चर चैंबर बना ले. इन दिनों सोशल मीडिया पर एक शख्स की बेरहमी से पिटाई का वीडियो वायरल हो रहा है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि युवक को पीटने वाला शख्स एक सूदखोर है. बता दें कि अगर युवक की बेरहमी से पिटाई का ये वीडियो अगर वायरल ना होता तो शायद कभी इसके पीछे की सनसनीखेज दास्तान सामने आ पाती. इंडिया न्यूज की पड़ताल में इस वीडियो का जो सच सामने आया उसके मुताबिक मामला सूदखोरी से जुड़ा है. मिली जानकारी के मुताबिक, पैसा समय पर ना लौटाने की वजह से इस वारदात को अंजाम दिया गया है. इस वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस एक्शन में नजर आई जिसके बाद सूदखोर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया.

पुलिसकर्मी के बदन पर खाकी वर्दी उन्हें फर्ज का अहसास कराती है जिससे अपराधियों में कानून का डर कायम रहता है लेकिन इसी खाकी को पहनकर कोई शैतान बन जाए तो क्या हो. जी हां, जो वायरल वीडियो आपको खबर में ऊपर की और दिखाई दे रहा उसमें कुछ पुलिसवाले दरिंदगी की सारे हदें पार करते हुए दिखाई देंगे. ऐसा कहते हैं कि मारने वाला से बचाने वाला बड़ा होता है लेकिन यहां तो मारना वाला ताकत बड़ा है और बचाने वाला कोई नहीं. अगर कोई मार खाते इस शख्स का साथ देता तो यकीन मानिये आपके हमारे सामने 21वीं सदी के हिंदुस्तान की इतनी शर्मनाक तस्वीर ना होती.

एक कमरे के अंदर दो लोग बैठे हुए हैं. एक खामोश से मुंह लटकाए हुए है और वहीं दूसरा बेहद गुस्से में दिखाई दे रहा है, तीसरा शख्स अपने मोबाइल से वीडियो बना रहा है. सफेद कुर्ते वाला ये शख्स अपने सामने बैठे इस युवक पर टूट पड़ता है. मार खाने वाला बदहवास हो जाएगा लेकिन गंदी गालियां देते हुए इस शख्स को ना शर्म आ रही है, ना रहम और जुल्मों सितम का सिलसिला जारी है.

सलाखें: अमेरिका पर बहुत जल्द एटम बम फोड़ेगा किम जोंग ?

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर