नई दिल्ली: देश के कई हिस्सों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है..दिल्ली में कई लोगों की ठंड की वजह से जान जाने की ख़बर है. उत्तर-भारत सर्दी की मार झेल रहा है. लेकिन आज बात उन जांबाजों की करेंगे, जिन्हें माइन्स 30 डिग्री तापमान में रहना पड़ता है. खून जमा देने वाली बर्फ में जो रोज नहाते है. जी हां, बर्फिली चोटियों पर इनका जोश और जज्बा देखकर आप कांपने लगेंगे. तो आईये देखते हैं..माइनस तीस डिग्री पर चोटियों के चीते…

माइनस 30 डिग्री तापमान में आम इंसान के लिए ज़िंदा रहना आसान नहीं है. इसके लिए कड़ी ट्रेनिंग से गुजरना होता है. खुद को इतने कम तापमान के लिए तैयार करना होता है. इसीलिए चीन, अमेरिका और ब्रिटेन अपने बेहतरीन कमांडो को ऐसे हालात से मुकाबला करने की खास ट्रेनिंग देते हैं, जो मौसम की भयानक से भयानक मार भी झेल सकते हैं. आखिर कैसे खुद को तैयार करते हैं.

चोटियों पर जांबाज जवानों का हौसला देखना है तो हिंदुस्तान के सबसे दुर्गम युद्धक्षेत्र में जाना होगा. जी हां, हम बात कर रहे हैं सियाचिन की. युद्ध का ऐसा मैदान जहां आम इंसान का एक घंटे भी जिंदा रहना मुश्किल होता है. क्योंकि 24 हज़ार फीट की ऊंचाई पर यहां ऑक्सीजन सिर्फ 10 फीसदी होती है. आखिर कैसे यहां माइनस 70 डिग्री में हिंदुस्तान के जांबाज अपना पराक्रम दिखाते हैं.

कहते हैं कि अगर कोई कमांडो माइनस 30 डिग्री तापमान में देश की हिफाजत कर सकता है. मौसम की मार झेलते हुए दुश्मन को शिकस्त दे सकता है. वही कमांडो हर मोर्चे पर दुश्मन से लोहा ले सकता है. शायद यही वजह है कि साउथ कोरिया इस तरह के खास कमांडो तैयार कर रहा है. जो बर्फिले पहाड़ों पर दुश्मन के खिलाफ लंबे वक्त तक जंग लड़ सकते हैं. अब आपको उन्हीं से मिलवाते हैं. वीडियो में देखें पूरा शो…

सलाखें: पाकिस्तान से लगती सीमाओं के पास 14,000 बंकर बनाएगा भारत

सलाखें: बार डांसर के प्यार में लुटाए थे 2 करोड़ रुपए, बेवफाई करने पर किया सिर कलम!

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App