बीजिंग: चीन ने एक ऐसा हथियार बनाने में कामयाबी हासिल कर ली है जिसके बाद अब दुनिया का कोई ऐसा हिस्सा नहीं बचा जो उसके निशाने की ज़द से बाहर हो. जी हां उसने एक ऐसी मिसाइल बना ली है जो आवाज़ की रफ्तार से 10 गुना ज्यादा स्पीड से दुनिया के किसी भी हिस्से में हमला कर सकती है. ये मिसाइल अपने आप में एक ऐसा खतरनाक दिव्यास्त्र है जिसने पूरी दुनिया में खलबली मचा दी है. मिसाइलों की दुनिया में ये सबसे नई सनसनी है. नाम है डोंगफेंग 41. डोंगफेंग इंटरकॉटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल है यानी एक एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप में मौजूद मुल्कों पर वार कर सकती है. इसकी रेंज इतनी है कि दुनिया का कोई कोना ऐसा नहीं जहां ये वार ना कर सके। यानी अगर ये चीन से जागी जाएगी तो पूरी दुनिया इसके निशाने पर होगी. ये कितनी विध्वंसक है ये बाद में बताएंगे पहले तो ये जान लीजिये कि फिलहाल दुनिया में इसके मुकाबले की कोई एक भी मिसाइल मौजूद नहीं है.

चीनी मिसाइलों की जद में अब करीब-करीब पूरी दुनिया है. लेकिन इस मिसाइल को बनाने के साथ ही चीन ने इसे दागने के खास इंतजाम भी कर लिये हैं. जमीन के नीचे ड्रैगन ने रेल नेटवर्क का खास जाल बिछाया है.. इस नेटवर्क के ज़रिये मिसाइलों को कभी भी लांच के लिए मिनटों में तैयार किया जा सकता है. चीन अगर मिसाइल तकनीक में आगे बढ़ रहा है तो इस मामले में भारत भी पीछे नहीं है. भारत के पास करीब 17 तरह की अलग-अलग मिसाइलें हैं, जिन्हें जरूरत के मुताबिक भारत दुश्मन के खिलाफ इस्तेमाल कर सकता है.

हिंदुस्तान के पास ऐसी ऐसी मिसाइलें हैं, जिनसे दुश्मन को 24 घंटे के भीतर घुटनों पर लाया जा सकता है. ड्रैगन को लगता है कि उसने अपनी नई मिसाइल से दुनिया को जकड़ लिया है.तो चीन गलतफहमी में जी रहा है. क्योंकि भारत से अलग रूस के पास चीन से ज्यादा ताकतवर मिसाइल है. वो मिसाइल जो न्यूक्लियर वॉरहेड ले जाने में सक्षम है और उससे एक साथ 16 टारगेट को तबाह किया जा सकता है. रूस की इस मिसाइल को शैतान-2 भी कहते हैं.

सलाखें: जान पर मंडराया खतरा तो तानाशाह किम जोंग ने खड़े किए अपने ‘डुप्लीकेट’!

सलाखें: किम जोंग इस लड़की से करता है बेइंतहा मोहब्बत!

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर