मथुरा: धर्म और आस्था की आड़ में पहले उसने अपनी दुकान जमाई और जब लोगों को उस पर भरोसा हो गया. तो उसने अधर्म शुरू कर दिया. जी हां, मथुरा के वृंदावन में बाबा वीरेंद्र देव का एक चेला मासूम लड़कियों की इज्जत से खेलने लगा है, लेकिन जब उसकी पोल खुली तो ना केवल वो कानून के शिकंजे में आया. बल्कि बीच सड़क पर बाबा की जबरदस्त धुनाई भी हुई.आइये देखते हैं एक और बाबा वीरेंद्र.

बाबा वीरेंद्र देव के चेले को सरेआम पीटा गया. उसके कपड़े उतार फेंके गये, लेकिन कोई बचाने नहीं आया. जानते हैं क्यों. क्योंकि जिस शख्स को सरेआम पीटा गया. उसने दिल्ली के बलात्कारी बाबा को अपना गुरु मान रखा था और उसी के नक्शेकदम पर चलते हुए वो मासूम लड़कियों की इज्जत से खेल रहा था. जो इल्जाम मथुरा के इस बाबा पर लगे हैं. उन्हीं आरोपों में वीरेंद्र देव की तलाश पुलिस को है.

देश में ऐसे बाबाओं की कमी नहीं जो धर्म को बदनाम करने में जुटे हैं और वक्त वक्त पर इनके साथ हाथपाई होती रही है. खुद को स्वामी कहने वाले ओम बाबा की तो पिटाई अक्सर होती है. कभी किसी कार्यक्रम में तो कभी बीच सड़क पर. एक बार तो ओम बाबा को सुप्रीम कोर्ट में लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा था. बाबाओं के मार खाने के मामले में स्वामी ओम सबसे आगे हैं. वीडियो में देखें पूरा शो…

सलाखें: संगीन आरोपों के बाद भी लड़कियां बाबा वीरेंद्र देव के समर्थन मे क्यों?

सलाखें: 20 शहरों में चल रही है रेप के आरोपी बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित की तलाश