सेंचुरियन: साउथ अफ्रीका दौरे पर गई टीम इंडिया अपने अगले मैच को लेकर रणनीति बनाने में जुट गई है. सेंचुरियन पहुंचने के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और मुख्य कोच रवि शास्त्री ने बल्लेबाजों को रन बनाने का खुला चैलेंज दे दिया है. माना जा रहा है कि रवि शास्त्री ने बल्लेबाजी से साफ कहा है कि वे केपटाउन के यादों को भलुा दें और बिंदास खेले. तभी तो जिस गेंदबाजी पर दक्षिण अफ्रीका इतना इतरा रहा है कि वो फॉर्मूला अब उसे काम नहीं आना वाला है. क्योंकि केपटाउन की अपेक्षा सेंचुरियन में टीम इंडिया के खेल में बहुत बदलाव देखने को मिल सकता है. क्योंकि टीम ने अब एक नई तकनीक इजाद कर ली है.

हालांकि इस तकनीक का उपयोग पहले भी किया जा चुका है. जो काफी कारगर रहा. इस बह्मास्त्र का नाम है आगे निकलकर खेलना. विराट कोहली इस फॉर्मूला को पहले भी अपना चुके हैं. विराट ने तूफानी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ी के सामने इस तकनीक के साथ खेले 4 टेस्ट में 4 शतक और 1 अर्धशतक के साथ 692 रन बना दिए थे जबकि मुरली विजय ने 4 टेस्ट में 4 अर्धशतक और 1 शतक के साथ 482 रन बनाए थे. इससे पहले इंग्लैंड दौरे पर विराट एंडरसन की स्विंग लेती गेंदों के सामने नतमस्तक हो गए थे.

कुछ ऐसे ही हालात इस बार केपटाउन में भी थे. भारतीय बल्लेबाज़ तेजी और स्विंग के सामने तकनीकी रूप से बार-बार गलती करते चले गए. लेकिन अब भी कुछ नहीं बिगड़ा, सीरीज़ अब भी खुली है. स्टांस बदलकर पुराने अच्छे दिन वापस लौट सकते हैं… फिलेंडर को फोड़ने का ये प्लान हिट हो सकता है. भारतीय बल्लेबाज़ी लाइनअप को दुनिया में नंबर वन कहा जाता है. ये टीम दुनिया की नंबर वन टीम है. ये बल्लेबाज़ अफ्रीकी पेस अटैक का एनकाउंटर करेंगे. जरूर करेंगे, इसका भरोसा ही नहीं विश्वास भी है.

वीडियो में देखें पूरा शो-

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App