नई दिल्ली. आर अश्विन एक ऐसा गेंदबाज जिसके नाम की तूती इस समय वर्ल्ड क्रिकेट में बोल रही है. 300 विकेट का जश्न पूरा हिंदुस्तान मना रहा है. खुद आर अश्विन कह रहे हैं कि अभी तो बस शुरुआत है. मेरा लक्ष्य अब 600 विकेट का होगा. बता दें अभी तक उन्होंने केवल 54 टेस्ट मैच ही खेले हैं और इस कामयाबी को अचीब किया है. लेकिन अश्विन के भारत और विदेश में खेलने के रिकॉर्ड भी देख लेने चाहिए क्योंकि आने वाले टाइम में भारत को 18 महिने विदेश में खेलना है.

दरअसल, टीम इंडिया को अगले साल एक के बाद एक विदेशी दौरे करने हैं. जिसकी शुरुआत साउथ अफ्रीका से होनी है, उसके बाद भारतीय टीम को इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और फिर न्यूजीलैंड का दौरा करना है. इन विदेशी दौरों पर टीम इंडिया का सामना तेज और बाउंसी पिचों से होगा. जहां स्पिन के मुकाबले तेज गेंदबाज ज्यादा कारगर हथियार होंगे. ऐसे में अश्विन या जडेजा में से कोई एक ही प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बन पाएगा. यानी अगले डेढ़ साल साल तक अश्विन और जडेजा क्रिकेट के मैदान पर जोड़ी में शिकार करते नजर नहीं आएंगे. इस सूरत में दिल्ली में होने वाला श्रीलंका के खिलाफ आखिरी टेस्ट मैच इस सुपरहिट स्पिन जोड़ी के लिए एक साथ खेलने और आने वाले विदेशी दोरों के लिए खुद को तैयार करने का आखिरी मौका होगा.

हाल में ही अश्विन ने श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कामयाब रिकॉर्ड बनाया. अश्विन ने 54 टेस्ट मैचों में 300 विकेट झटके हैं. इस रिकॉर्ड का जश्न पूरे हिंदुस्तान ने मनाया. इस लक्ष्य को पाने पर अश्विन को कई दिग्गजों ने बधाई भी दी. अपनी इस जीत पर अश्विन ने मीडिया ले रूबरू होते हुए कहा था कि मैं उम्मीद कर रहा हूं कि 300 विकेट की इस उपलब्धि को मैं 600 विकेट में तब्दील कर सकूं, मैंने अभी केवल 54 टेस्ट मैच ही खेले हैं. आगे में और बेहतर खेलने की कोशश करूंगा.

रनयुद्ध : पाकिस्तान को पीटना क्यों पसंद करते हैं हार्दिक पांड्या ?