नई दिल्ली: टीम इंडिया आज देर रात साउथ अफ्रीका दौरे के लिए रवाना हो जाएगी. नए साल में शुरू हो रहे इस विदेश दौरे पर टीम इंडिया के लिए गंभीर वार्निंग भी है. क्योंकि फिलहाल टीम के कुछ खिलाड़ियों को छोड़ दे तो पूरी टीम युवाओं से भरी हुई है. वहीं विराट कोहली के क्रिकेट करियर का ये सबसे गंभीर चैलेंज है. क्योंकि बड़े मैच का बड़ा खिलाड़ी टीम इंडिया से वनवास काट रहा है. घरेलू क्रिकेट में दम तो दिखा दिया लेकिन टीम में जगह नहीं मिली. कमबैक की आस भी नहीं छोड़ी है. जी हां हम बात कर रहे हैं गौतम गंभीर की. दिल्ली 10 साल बाद रणजी ट्रॉफी फाइनल में पहुंची. गंभीर ने सेमीफाइनल में बंगाल के खिलाफ 127 रनों की पारी खेली.

रणजी ट्रॉफी 2017-18 में गंभीर ने 8 मैचों में 63.20 की औसत से 3 शतक और 2 अर्धशतक के साथ 632 रन बनाएं हैं. फाइनल में मुकाबला 29 दिसंबर को विर्दभा से होगा लेकिन एक मुकाबला गंभीर का भी खुद से भी चल रहा है. गंभीर ने टीम इंडिया के लिए 4 साल पहले जनवरी 2013 को आखिरी वनडे मैच खेला था. जबकि 1 साल पहले नंवबर 2016 में टेस्ट मैच खेला था. इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट टेस्ट में सिर्फ एक मिले मौके पर बल्ला नहीं चला और अब टेस्ट टीम में मौका मिलना आसान भी नहीं.

मुरली विजय,शिखर धवन और केएल राहुल हैं टेस्ट ओपनर्स बन गए हैं. जुलाई 2017 श्रीलंका दौरे पर अभिनव मुकुंद मौका दिया गया था. इन चार ओपनर्स में गंभीर सबसे सीनियर है. उम्र36 के पार हो चुकी है, फिटनेस सही है. लेकिन फिलहाल युवा ठीक कर रहे हैं. ऐसे में साउथ अफ्रीका में युवा फेल होते हैं तो गंभीर को आखिरी मौका इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया की तेज पिचों पर अनुभव के नाम पर मिल सकता है.

वीडियो में देखे पूरा शो-

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App