नई दिल्ली: भारत और श्रीलंका के बीच नागपुर में खेले गए दूसरे टेस्ट में 143 रन की पारी खेलकर टीम इंडिया के बैट्समैन चेतेश्वर पुजारा ने आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में दूसरे नंबर पर पहुंच गए हैं. टेस्ट मैच में टीम इंडिया की सबसे मजबूत कड़ी माने जाने वाले चेतेश्वर पुजारा ने इंडिया न्यूज से खास बातचीत में कहा कि दिसंबर में शुरू होने वाले विदेशी दौरे के लिए हमने काफी मेहनत की है. खासकर काउंटी क्रिकेट में मैंने ज्यादा मेहनत की है. पुजारा ने कहा कि विदेशी दौरा टफ होता है क्योंकि आपको वहां के हिसाब से शॉट सलेक्शन करना पड़ता है. पुजारा ने कहा कि जब आप भारत के लिए क्रिकेट खेले रहे तो हर खिलाड़ी के दिमांग में यही बात रहती है कि मैच कैसे जीता जाए.

मैच को लेकर टीम की रणनीति के सवाल पर पुजारा ने कहा कि इसके लिए मैच के पहले पूरी टीम एक साथ बैठकर यह रणनीति तय करती है कि हम सीरीज में कैसे कमबैक करेंगे. पुजारा ने कहा कि अभी की टीम काफी यंग टीम है, खिलाड़ियों के बीच में कम्यूनिकेशन भी बेहतर है. यही वजह है कि टीम बेहतर कर रही है. चेतेश्वर पुजार ने टी20 नहीं खेलने के सवाल पर कहा कि जब आप टेस्ट मैच खेलते हो तो आपको एक बैलेंस की जरूरत पड़ती है. उन्होंने कहा कि हां ये बात सही है कि मैं तेजी से रन नहीं बना सकता.

बता दें कि पुजारा साल 2017 में टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज हैं. पुजारा इस साल खेले गए 10 टेस्ट मैच में 71.20 की औसत से 1068 रन बनाए हैं. पुजारा ने कहा कि जब एक खिलाड़ी के करियर में एक ऐसा फेज आता है जहां थोड़ी मुश्किलें होती हैं. मेरे साथ भी ऐसा हुआ, इसके लिए मैने टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ से मुलाकात की. वो इंडिया के कोच थे. उन्होंने मुझे सुझाव दिए कि मैं जैसा बल्लेबाजी करता हूं वैसा ही करें. एक दो लंबी पारी के बाद फॉर्म वापस आ जाएगा. ठीक वैसा ही श्रीलंका के खिलाफ मैंने शतक जड़ा और एक बार फिर में फॉर्म में वापस आ गया.

वीडियो में देखें पूरा शो-