नई दिल्ली: पर्दे के पीछे रहकर विराट कोहली की हर सफलता में अनिल कुंबले का रोल कोई नहीं नकार सकता. लेकिन अब विराट वर्सेज कुंबले की इस जंग को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं.
 
कुंबले की कोचिंग में टीम इंडिया ने 17 टेस्ट खेले, जिसमें 12 जीते और सिर्फ 1 मैच हारा. जीत का प्रतिशत रहा 70.59 फीसदी रहा. इसके अलावा वनडे में 13 मैच खेले 8 जीत और 5 हार के साथ जीत का प्रतिशत 61.54 रहा. वहीं टी-20 में 5 टी-20 ही खेले जिनमें 2 जीते और 2 हारे और 1 मैच रद्द हो गया इसलिए जीत का प्रतिशत भी 50 से कम होकर 40 हो गया.
 
कुंबले की कोचिंग में भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ सिर्फ एक टी-ट्वेंटी सीरीज गंवाई तो वहीं वनडे में चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल हारे. विराट कोहली का बल्ला भी कुंबले की कोचिंग में सिर चढ़कर बोला. इसकी गवाही ये आकंड़े चिल्ला-चिल्ला कर देते हैं. टेस्ट में विराट की औसत 65.35, वनडे में 100.12 और टी- ट्वेंटी में 17 की रही. कुंबले की ही कोचिंग में विराट ने अपने टेस्ट करियर के चार दोहरे शतक पूरे किए. 
 
 
कोहली-कुंबले विवाद की सुगबुहाहट तो पहले से आ रही थी, लेकिन जब अनिल कुंबले के विराट को थ्रो-डाउन करने वाली तस्वीरें सामने भी आई. तब लगा कि सबकुछ ठीक हो रहा है लेकिन विराट ने पूरी चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान एक बार भी कुंबले का नाम खुलकर नहीं लिया. एक बार कोचिंग विवाद बोले भी तो इसे एक प्रकिया बताकर बच गए.
 
वीडियो में देखें पूरा शो…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App