नई दिल्ली. हर घर में सुख शांति व समृद्धि के लिए हमेशा कामना की जाती है लेकिन फिर भी कुछ घरों में तनाव, क्लेश व लड़ाई-झगड़ा होता रहता है. ऐसा होने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन इसका प्रमुष कारण हैं वास्तुशास्त्र. ज्योतिषशास्त्र में ऐसे कई बातें बताई गई हैं, जो घर की सुख-शांति को कम करती हैं. हम लोग घर में कुछ काम व चीजों को इस तरह रखते हैं जो घर की शांति व परिवार के रिश्ते मधुर नहीं रहने देते.

ऐसी ही अगर आपने अपने घर के मुख्यद्वार पर के पास मटका या जग भरकर रख देते हैं, जोकि वास्तुशास्त्र के अनुसार एक दम गलत है. ऐसा करने से घर की शांति भंग होती है और बरकत भी चली जाती है. यदि दरवाजे के पास पानी रखना भी हो तो उत्तर-पूर्व या दक्षिण पूर्व दिशा में रखना चाहिए. ये पानी रखने कि लिए सही दिशा है लेकिन ध्यान रखें कभी भी पानी को मुख्यद्वार के दाईं ओर ने न रखें.

मुख्यद्वार के किनारे या नजदीक में पानी भर के रखने से सबसे ज्यादा प्रभाव घर की बरकत पर पड़ता है. ऐसा करने से घर में आर्थिक सकंट उत्पन्न होता है. ज्योतिष जानकारों के अनुसार ऐसा करने से घर का मुखिया किसी दूसरी महिला की ओर आकर्षित होने लगता है. पति पत्नी के संबंध में परेशानियां खड़े होने लगती हैं. मुख्यद्वार पर पानी रखने का तीसरा सबसे बड़ा नुकासन यह होता है कि दाईं ओर भरा पात्र, घर में आती सकारात्मक ऊर्जा को सोख लेता है जिससे घर में रोग, आर्थिक संकट, तनाव, क्लेश आदि उत्पन्न होता है.

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कलेंडर का भी खास महत्व होता है. कलेंडर को कुछ लोग कहीं भी लटका देते हैं, लेकिन ऐसा करना घर में बीमारियों को न्योता देने के बराबर होता है. कभी भी कैलेंडर को दरवाजे के आगे या पीछे की ओर नहीं लटकाना चाहिए. इसी प्रकार घर में कैंची, चाकू, छूरी या कोई औजार भी सही दिशा में रखना चाहिेए. कहा जाता है कि यदि सही दिशा में न हो तो घर में लड़ाई झगड़े होते हैं. ऐसे धारदार चीजों को दक्षिण-पूर्व दिशा में टांगना या रखने से अशुभ प्रभाव नहीं होता.

Shani Pradosh Vrat 2018: शनि प्रदोष व्रत का महत्व, पूजा विधि, जानिए क्यों किया जाता है ये व्रत

Padmini Ekadashi 2018: पद्मिनी एकादशी का व्रत करने से होगी हर मनोकामना पूरी, जरूर पढ़ें कमला एकादशी व्रत कथा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App